Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

हम उनकी क़ैद से कुछ क्षण को क्या बाहर निकल आये
उन्हें चिंता है कैसे चीटियों के पर निकल आये

वो जिस बस्ती को पूरे मुल्क की गद्दार कहते हैं
अगर ढूँढें तो उस बस्ती में उनका घर निकल आये

हमारा ध्यान थोड़ा-सा अगर भटके तो मुमकिन है
जो रहबर है उसी की जेब से पत्थर निकल आये

नशा उनको है सरकारी ज़मीनों को हड़पने का
वो हरदम खोजते हैं कब कहाँ बंजर निकल आये

अगर हमसे शिकायत है तो ढूँढो दूसरा आशिक
ये मुमकिन है कि कोई ‘नूर’ से बेहतर निकल आये

✍️ जितेन्द्र कुमार ‘नूर’

Language: Hindi
2 Likes · 552 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अध्याय 3*
*अध्याय 3*
Ravi Prakash
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
मैं तो महज एक ख्वाब हूँ
VINOD CHAUHAN
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
Amit Pandey
बेफिक्र अंदाज
बेफिक्र अंदाज
SHAMA PARVEEN
नया भारत
नया भारत
दुष्यन्त 'बाबा'
"The Power of Orange"
Manisha Manjari
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
तू मेरे सपनो का राजा तू मेरी दिल जान है
कृष्णकांत गुर्जर
The emotional me and my love
The emotional me and my love
Sukoon
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
आंखों से अश्क बह चले
आंखों से अश्क बह चले
Shivkumar Bilagrami
फितरत
फितरत
लक्ष्मी सिंह
हस्ती
हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्त.............एक विश्वास
दोस्त.............एक विश्वास
Neeraj Agarwal
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
साँप और इंसान
साँप और इंसान
Prakash Chandra
शेर अर्ज किया है
शेर अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
मंजिले तड़प रहीं, मिलने को ए सिपाही
Er.Navaneet R Shandily
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
सपन सुनहरे आँज कर, दे नयनों को चैन ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
अरबपतियों की सूची बेलगाम
अरबपतियों की सूची बेलगाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
वक्त अब कलुआ के घर का ठौर है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
कभी हैं भगवा कभी तिरंगा देश का मान बढाया हैं
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
तूफान आया और
तूफान आया और
Dr Manju Saini
ये नोनी के दाई
ये नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Loading...