Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2023 · 1 min read

ग़ज़ल

दोस्त भी दुश्मन को लिए साथ आ गए।
जितने थे दर्द साथ मुझे रास आ गए।

आंखों को भी सुकून मिला दिल को भी सुकून।
वह दिल में बनके जब से मेरे खास आ गए।

हैरत है कोई संग मलामत नहीं बरसा।
सब संगबाज़ कैसे भला बाज़ आ गए।

मुझसे छुपा रहे थे जो मेरी ही बात को।
वह खुद बताने मुझको अपने राज़ आ गए।

सबसे दूर रहते थे मुझसे भी दूर थे।
न जाने किस तरह वह मेरे पास आ गए।

ऐलान हुआ जब से इमदाद सरकारी।
कासा लिए हुए सभी मोहताज आ गए।

आप सगीर उड़ना खुले आसमान में।
अब तो कबूतरों में भी कुछ बाज आ गए।

230 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फितरत
फितरत
Kanchan Khanna
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
मां का प्यार पाने प्रभु धरा पर आते है♥️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
मोर छत्तीसगढ़ महतारी
Mukesh Kumar Sonkar
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
कैसे करूँ मैं तुमसे प्यार
gurudeenverma198
रिश्ते प्यार के
रिश्ते प्यार के
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"यादों के झरोखे से"..
पंकज कुमार कर्ण
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
भले ही तुम कड़वे नीम प्रिय
Ram Krishan Rastogi
एक मीठा सा एहसास
एक मीठा सा एहसास
हिमांशु Kulshrestha
न बीत गई ना बात गई
न बीत गई ना बात गई
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*चारों और मतलबी लोग है*
*चारों और मतलबी लोग है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रक्त संबंध
रक्त संबंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
याद आया मुझको बचपन मेरा....
याद आया मुझको बचपन मेरा....
Harminder Kaur
"बल और बुद्धि"
Dr. Kishan tandon kranti
जिंदगी का सवेरा
जिंदगी का सवेरा
Dr. Man Mohan Krishna
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
2819. *पूर्णिका*
2819. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
बुंदेली दोहा -गुनताडौ
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
तेरा-मेरा साथ, जीवनभर का ...
Sunil Suman
पंचम के संगीत पर,
पंचम के संगीत पर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
बिगड़ी किश्मत बन गयी मेरी,
Satish Srijan
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
आज हम जा रहे थे, और वह आ रही थी।
SPK Sachin Lodhi
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
ऋतु गर्मी की आ गई,
ऋतु गर्मी की आ गई,
Vedha Singh
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
इतने बीमार
इतने बीमार
Dr fauzia Naseem shad
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
Loading...