Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Apr 2022 · 1 min read

तेरे नाम यह पैगा़म है सगी़र की ग़ज़ल।

तेरे नाम यह पैगा़म है सगी़र की ग़ज़ल।
दिल पर तुम्हारा नाम है सगी़र की ग़ज़ल।
❤️
दिल से कुबूल कीजिए तोहफा ये प्यार का।
तेरे लिए सलाम है सगी़र की ग़ज़ल।
❤️
छोड़कर जाने की जरूरत नहीं कहीं ।
कायम तू ही मकाम है सगी़र की ग़ज़ल।
❤️
पढ़कर ग़ज़ल तुम्हारी मुझे चैन आ गया।
तेरे लिए ईनाम है सगी़र की ग़ज़ल।
❤️
अब ना भटकने दूंगा तुझे मेरे पास आ।
दिल में तेरा मकान है सगी़र की ग़ज़ल।
❤️❤️❤️❤️❤️❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी

1 Like · 508 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
यहाँ सब काम हो जाते सही तदबीर जानो तो
आर.एस. 'प्रीतम'
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अहसास तेरे....
अहसास तेरे....
Santosh Soni
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
कहना
कहना
Dr. Mahesh Kumawat
चलो चलाए रेल।
चलो चलाए रेल।
Vedha Singh
"मत पूछो"
Dr. Kishan tandon kranti
वर्षों जहां में रहकर
वर्षों जहां में रहकर
पूर्वार्थ
तलबगार दोस्ती का (कविता)
तलबगार दोस्ती का (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
💐प्रेम कौतुक-559💐
💐प्रेम कौतुक-559💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
🙅सोचो तो सही🙅
🙅सोचो तो सही🙅
*Author प्रणय प्रभात*
क्या मिला मुझको उनसे
क्या मिला मुझको उनसे
gurudeenverma198
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (3)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
अछूत का इनार / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
एक सवाल ज़िंदगी है
एक सवाल ज़िंदगी है
Dr fauzia Naseem shad
करगिल के वीर
करगिल के वीर
Shaily
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
जब सहने की लत लग जाए,
जब सहने की लत लग जाए,
शेखर सिंह
जख्म हरे सब हो गए,
जख्म हरे सब हो गए,
sushil sarna
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
जिम्मेदारी और पिता (मार्मिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
मैं घाट तू धारा…
मैं घाट तू धारा…
Rekha Drolia
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पांव में मेंहदी लगी है
पांव में मेंहदी लगी है
Surinder blackpen
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
राम के नाम को यूं ही सुरमन करें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...