Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jan 2017 · 1 min read

कोई बिछड़ा याद न आये

इस तन्हाई के कानन से, क्या है कोई मुक्ति बता ।
कोई बिछड़ा याद न आये, ऐसी कोई युक्ति बता ।।

अलसाई है धूप और हम, किसी धुंध में खोये हैं ।
एक अजब धोके में दिल के, लाखों सपने सोये हैं ।
जो आँखों से धुंध हटा दे, ऐसी कोई उक्ति बता…..
कोई बिछड़ा याद न आये…………।।

राहुल द्विवेदी ‘स्मित’

Language: Hindi
Tag: गीत
259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
रोटी
रोटी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कई खयालों में...!
कई खयालों में...!
singh kunwar sarvendra vikram
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
*चौदह अगस्त को मंथन से,निकला सिर्फ हलाहल था
Ravi Prakash
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
*** तस्वीर....! ***
*** तस्वीर....! ***
VEDANTA PATEL
3141.*पूर्णिका*
3141.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
रोटियों से भी लड़ी गयी आज़ादी की जंग
कवि रमेशराज
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
परीक्षाएँ आ गईं........अब समय न बिगाड़ें
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
पात कब तक झरेंगें
पात कब तक झरेंगें
Shweta Soni
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
किताब
किताब
Sûrëkhâ
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
मुट्ठी में आकाश ले, चल सूरज की ओर।
Suryakant Dwivedi
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की
जय जय नंदलाल की ..जय जय लड्डू गोपाल की"
Harminder Kaur
नव संवत्सर आया
नव संवत्सर आया
Seema gupta,Alwar
आपको हम
आपको हम
Dr fauzia Naseem shad
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
स्वयं से तकदीर बदलेगी समय पर
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
कुछ रिश्ते भी बंजर ज़मीन की तरह हो जाते है
पूर्वार्थ
जब भी आया,बे- मौसम आया
जब भी आया,बे- मौसम आया
मनोज कुमार
पर्यावरण और प्रकृति
पर्यावरण और प्रकृति
Dhriti Mishra
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
#एक_तथ्य-
#एक_तथ्य-
*Author प्रणय प्रभात*
जाने के बाद .....लघु रचना
जाने के बाद .....लघु रचना
sushil sarna
मकर संक्रांति
मकर संक्रांति
Mamta Rani
"जानलेवा"
Dr. Kishan tandon kranti
कितने पन्ने
कितने पन्ने
Satish Srijan
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
एक अच्छे मुख्यमंत्री में क्या गुण होने चाहिए ?
Vandna thakur
Loading...