Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल
********
हमारे इश्क़ के सदके ,ये काम कर जाओ
हमारे दिल में नहीं , रूह में उतर जाओ
**********
हमें भी प्यार की खुशबू में तर बतर कर दो
कभी करीब से आकर, मेरे गुजर जाओ
************
हमारा मिलके कभी, तुमसे दिल नहीं भरता
तुम्हें कसम है हमारी, अभी ठहर जाओ
************
मेरे करीब तो आओ , न दूर बैठो तुम
उदास रात है चाहत, का नूर भर जाओ
***********
हमेशा साथ निभाना, न तोड़ना दिल को
किसी हसीन की सूरत पे,तुम जो मर जाओ
*************
तुम्हारे वादे पे मुझको , यकीन कैसे हो
कहीं ज़माने की बातों से तुम न डर जाओ
***********
न दूर करना कभी दिल से “फ़ैज़ “की चाहत
हमें जो छोड़ के , अपने कभी शहर जाओ
*********
फ़ैज़ बदायूँनी
फोन न0-09958919395 (दिल्ली )002

1 Like · 1 Comment · 382 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ एक दोहा
■ एक दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
वियोग
वियोग
पीयूष धामी
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
ज़िंदगी मोजिज़ा नहीं
Dr fauzia Naseem shad
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
ये जो नखरें हमारी ज़िंदगी करने लगीं हैं..!
Hitanshu singh
हे प्रभू !
हे प्रभू !
Shivkumar Bilagrami
नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
कुंदन सिंह बिहारी
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
वक़्त आने पर, बेमुरव्वत निकले,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"शतरंज के मोहरे"
Dr. Kishan tandon kranti
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
लार्जर देन लाइफ होने लगे हैं हिंदी फिल्मों के खलनायक -आलेख
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
गौरैया दिवस
गौरैया दिवस
Surinder blackpen
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
Buddha Prakash
ज़िंदगी
ज़िंदगी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
कार्तिक पूर्णिमा की रात
कार्तिक पूर्णिमा की रात
Ram Krishan Rastogi
ईश्वर का रुप मां
ईश्वर का रुप मां
Keshi Gupta
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
कठिनाईयां देखते ही डर जाना और इससे उबरने के लिए कोई प्रयत्न
Paras Nath Jha
किरदार
किरदार
SAGAR
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
जब तक रहेगी ये ज़िन्दगी
Mr.Aksharjeet
सच
सच
Neeraj Agarwal
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
*उनका उपनाम-करण (हास्य व्यंग्य)*
*उनका उपनाम-करण (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
अच्छी लगती धर्मगंदी/धर्मगंधी पंक्ति : ’
Dr MusafiR BaithA
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
आज फिर किसी की बातों ने बहकाया है मुझे,
Vishal babu (vishu)
करके ये वादे मुकर जायेंगे
करके ये वादे मुकर जायेंगे
Gouri tiwari
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यार ब - नाम - अय्यार
यार ब - नाम - अय्यार
Ramswaroop Dinkar
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
आपकी मुस्कुराहट बताती है फितरत आपकी।
Rj Anand Prajapati
मां
मां
Monika Verma
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
Loading...