Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 26, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ग़ज़ल
********
हमारे इश्क़ के सदके ,ये काम कर जाओ
हमारे दिल में नहीं , रूह में उतर जाओ
**********
हमें भी प्यार की खुशबू में तर बतर कर दो
कभी करीब से आकर, मेरे गुजर जाओ
************
हमारा मिलके कभी, तुमसे दिल नहीं भरता
तुम्हें कसम है हमारी, अभी ठहर जाओ
************
मेरे करीब तो आओ , न दूर बैठो तुम
उदास रात है चाहत, का नूर भर जाओ
***********
हमेशा साथ निभाना, न तोड़ना दिल को
किसी हसीन की सूरत पे,तुम जो मर जाओ
*************
तुम्हारे वादे पे मुझको , यकीन कैसे हो
कहीं ज़माने की बातों से तुम न डर जाओ
***********
न दूर करना कभी दिल से “फ़ैज़ “की चाहत
हमें जो छोड़ के , अपने कभी शहर जाओ
*********
फ़ैज़ बदायूँनी
फोन न0-09958919395 (दिल्ली )002

1 Like · 1 Comment · 176 Views
You may also like:
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
अकेलापन
AMRESH KUMAR VERMA
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
यह सूखे होंठ समंदर की मेहरबानी है
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हस्यव्यंग (बुरी नज़र)
N.ksahu0007@writer
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️✍️रूपया✍️✍️
"अशांत" शेखर
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
प्रेमानुभूति भाग-1 'प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’
पंकज 'प्रखर'
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विधाता
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
बचपन की यादें
Anamika Singh
स्वर्गीय श्री पुष्पेंद्र वर्णवाल जी का एक पत्र : मधुर...
Ravi Prakash
चलो गांवो की ओर
Ram Krishan Rastogi
सरकारी निजीकरण।
Taj Mohammad
आईनें में सूरत।
Taj Mohammad
✍️कालचक्र✍️
"अशांत" शेखर
माता अहिल्याबाई होल्कर जयंती
Dalvir Singh
मां के समान कोई नही
Ram Krishan Rastogi
✍️मातम और सोग है...!✍️
"अशांत" शेखर
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Loading...