Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

ग़ज़ल सगीर

आप मुरझाए हैं, क्यों सूखे गुलाबों की तरह।
किस लिए गुस्सा उतर आया अजाबों की तरह।
🌹
पाए तकमील नहीं पहुंचा मुहब्बत क्योंकर।
इसलिए मैं हूं अधूरा मेरे ख्वाबों की तरह।
🌹
मैंने तो दिल में छुपा रखा है उसको अपने।
उसकी चाहत है मगर वह है हिजाबों की तरह।
🌹
तिश्नगी में चले आए थे लबे दरिया पर।
वह नजर आता है सहरा में सराबों की तरह।
🌹
इतना आसान नहीं है मेरे जख्मों का हिसाब।
खत्म होता नही है सूदी हिसाबों की तरह।
🌹
खत मेरे जब भी पढ़ोगे तुम्हे तड़पाएंगी।
मेरी यादें हैं मगर बंद किताबों की तरह।
🌹
दास्तां इश्क की पढ़ते हैं सभी शाम ओ सहर।
इतना आसान नहीं पढ़ना निसाबों की तरह।
🌹
मैं “सगीर” उसके सवालों में उलझ जाता हूं।
यार दिलचस्प हो तुम अपने जवाबों की तरह।

Language: Hindi
63 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने साथ तो सब अपना है
अपने साथ तो सब अपना है
Dheerja Sharma
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
किसी अनमोल वस्तु का कोई तो मोल समझेगा
कवि दीपक बवेजा
" रीत "
Dr. Kishan tandon kranti
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कितना खाली खालीपन है !
कितना खाली खालीपन है !
Saraswati Bajpai
" पुराने साल की बिदाई "
DrLakshman Jha Parimal
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गम
गम
इंजी. संजय श्रीवास्तव
"राज़" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
রাধা মানে ভালোবাসা
রাধা মানে ভালোবাসা
Arghyadeep Chakraborty
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
भारत सनातन का देश है।
भारत सनातन का देश है।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
'आरक्षितयुग'
'आरक्षितयुग'
पंकज कुमार कर्ण
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
मेहनत का फल (शिक्षाप्रद कहानी)
AMRESH KUMAR VERMA
Jo Apna Nahin 💔💔
Jo Apna Nahin 💔💔
Yash mehra
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
चेहरे की शिकन देख कर लग रहा है तुम्हारी,,,
शेखर सिंह
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
★
पूर्वार्थ
सत्य वह है जो रचित है
सत्य वह है जो रचित है
रुचि शर्मा
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
*चम्मच पर नींबू रखा, डंडी मुॅंह में थाम*
*चम्मच पर नींबू रखा, डंडी मुॅंह में थाम*
Ravi Prakash
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
■ भगवान के लिए, ख़ुदा के वास्ते।।
*प्रणय प्रभात*
वो एक एहसास
वो एक एहसास
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Mannato ka silsila , abhi jari hai, ruka nahi
Sakshi Tripathi
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शिव रात्रि
शिव रात्रि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...