Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2022 · 1 min read

ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके…

रोशनी देता है सूरज को शरारा करके
छीन भी लेता है बस एक इशारा करके

दूर मत भाग कभी रब से किनारा करके
चमका देगा तुझे इक़ रोज सितारा करके

रेत सहरा की तपे आग उगलता सूरज
भेज देता वो वहाॅं अब़्र इशारा करके

सारे आलम का वही एक ही तो मालिक है
बाॅंट मत यार उसे मेरा तुम्हारा करके

डूब जाए न मेरी कश्ती बचा ऐ मालिक
बीच मझधार तक ले आया तरारा करके

बागवाॅं बनके बचा पाया न मैं एक शज़र।
वो धरा सींच गया पल में हजारा करके।।

ढूॅंढता ज़िंदगी भर सारे ज़हां में उसको।
‘कल्प’ वो मुझको मिला दिल में निहारा करके।।

✍ अरविंद राजपूत’कल्प’

1 Like · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है
शेखर सिंह
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
पीर मिथ्या नहीं सत्य है यह कथा,
संजीव शुक्ल 'सचिन'
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
*लफ्ज*
*लफ्ज*
Kumar Vikrant
सब अपने नसीबों का
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
छोटी छोटी खुशियों से भी जीवन में सुख का अक्षय संचार होता है।
Dr MusafiR BaithA
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हाँ, मैं कवि हूँ
हाँ, मैं कवि हूँ
gurudeenverma198
"साहित्यकार और पत्रकार दोनों समाज का आइना होते है हर परिस्थि
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
■ दुनियादारी की पिच पर क्रिकेट जैसा ही तो है इश्क़। जैसी बॉल,
*Author प्रणय प्रभात*
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
i always ask myself to be worthy of things, of the things th
पूर्वार्थ
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---6. || विरोधरस के उद्दीपन विभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
बनारस
बनारस
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
*भक्ति के दोहे*
*भक्ति के दोहे*
Ravi Prakash
ईमानदारी
ईमानदारी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
कहा हों मोहन, तुम दिखते नहीं हों !
The_dk_poetry
मैं तेरी पहचान हूँ लेकिन
मैं तेरी पहचान हूँ लेकिन
Shweta Soni
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
পছন্দের ঘাটশিলা স্টেশন
Arghyadeep Chakraborty
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
हिंदी मेरी माँ
हिंदी मेरी माँ
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मैं तो अंहकार आँव
मैं तो अंहकार आँव
Lakhan Yadav
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
मास्टर जी: एक अनकही प्रेमकथा (प्रतिनिधि कहानी)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भरत
भरत
Sanjay ' शून्य'
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
आज लिखने बैठ गया हूं, मैं अपने अतीत को।
SATPAL CHAUHAN
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
उलझी हुई है ज़ुल्फ़-ए-परेशाँ सँवार दे,
SHAMA PARVEEN
Loading...