Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– मेरे यार का दामन दागी निकला !!

ग़ज़ल :–मेरे यार का दामन दागी निकला !!
गज़लकार :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

मान बैठे हिम , वो आगी निकला !
मेरे यार का दामन दागी निकला !!

ये तबस्सुम दी ये आबरू जिसे !
वो बेआबरू अभागी निकला !!

हमने उनका एकतिजाज ना किया !
वो रहजनी का बुनियादी निकला !!

झूठे अफसानो को तामीर करने वाला !
वो बस हुस्न का आदी निकला !!

बेइम्तहान् चाहा था जिसको !
ना पाकी नजर का ना हाजी निकला !!

मखरुती निगाहे निदामत भरी जिन्दगी !
वो अनफास की महबस माजी निकला !!

2 Likes · 3 Comments · 745 Views
You may also like:
अपराधी कौन
Manu Vashistha
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
मेरे गुरु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मध्यप्रदेश पर कुण्डलियाँ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सिरत को सजाओं
Anamika Singh
गीता के स्वर (17) श्रद्धा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मुहब्बतनामा
shabina. Naaz
युद्ध आह्वान
Aditya Prakash
*परम चैतन्य*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ढलती जाती ज़िन्दगी
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
प्यारे गुलनार लाये है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ज़िंदगी अपने सफर की मंजिल चाहती है।
Taj Mohammad
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️एक सुबह और एक शाम
'अशांत' शेखर
गीत की लय...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
पिता
Madhu Sethi
छंदानुगामिनी( गीतिका संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सुर और शब्द
Shekhar Chandra Mitra
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
मनमोहन मुरलीवाला(10मुक्तकों का माला)
लक्ष्मी सिंह
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जरूरी कहां कुल का दिया कुल को रोशन करें
कवि दीपक बवेजा
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
हम भारतीय हैं..।
Buddha Prakash
काम आयेगा तुम्हारे
Dr fauzia Naseem shad
सुभाषितानि
Shyam Sundar Subramanian
Loading...