Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 26, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– तेरे सीने से लिपट कर सोने में सुकून मिलता है !!

ग़ज़ल :– तेरे सीने से लिपट कर सोने में सुकून मिलता है !!

तेरे सीने से लिपट कर सोने में सुकून मिलता है !
एक मैदान-ए-जंग मे फतेह होने से सुकून मिलता है !!

सुकून नही मिलता लाखों की दौलत पाने से भी !
एक लम्हा तेरे संग खोने पे सुकून मिलता है !!

ख्वनाहिशें ना रही अब ख्वाबों के खजाने मे !
तेरी यादो के हर पल संजोने मे सुकून मिलता है !!

तेरे हुस्न पे हुजूर-ए-हुक्म भी कुर्बान कर दूँ !
गर न कर पाया तो रोने पे सुकून मिलता है !!

बन्दिशे नही , वल्कि जिन्दगी है तेरी बन्दगी करना !
बन्दगी कि बारिश मे खुद को भिगोने पर सुकून मिलता है !!

तेरी यादो ने अब अश्को का सैलाब भर दिया !
उस सैलाब मे खुद को डुबोने पर सुकून मिलता है !!

अनुज तिवारी “इन्दवार”

2 Comments · 453 Views
You may also like:
✍️इंसान के पास अपना क्या था?✍️
"अशांत" शेखर
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
पर्यावरण दिवस
Ram Krishan Rastogi
एक गलती ( लघु कथा)
Ravi Prakash
*मौसम प्यारा लगे (वर्षा गीत )*
Ravi Prakash
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
समंदर की चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विनती
Anamika Singh
तुम ख़्वाबों की बात करते हो।
Taj Mohammad
पुनर्पाठ : एक वर्षगाँठ
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग८]
Anamika Singh
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
उन बिन, अँखियों से टपका जल।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लहरों का आलाप ( दोहा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H. Amin
विश्व पुस्तक दिवस
Rohit yadav
# तेल लगा के .....
Chinta netam " मन "
परिस्थिति
AMRESH KUMAR VERMA
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
आगे बढ़,मतदान करें।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा
Kanchan Khanna
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
#जंगली फर (चार)....
Chinta netam " मन "
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math
'सती'
Godambari Negi
*प्रखर राष्ट्रवादी श्री रामरूप गुप्त*
Ravi Prakash
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
कर्म करो
Anamika Singh
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
Loading...