Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jun 17, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल :– चंदा की कशिश लेकिन सितारों से समझ लेंगे !!

ग़ज़ल :– चंदा सी कशिश लेकिन सितारों से समझ लेंगे !!
गज़लकार :- अनुज तिवारी “इंदवार”

ज़रा मुश्किल तो होगी पर नजारों से समझ लेंगे !
तेरे खामोश अधरों को इशारों से समझ लेंगे !!

नज़रों की नजाकत को भले हमसे छिपाओ तुम !
तेरी उलझन ये पलकों के किनारों से समझ लेंगे !!

मुमकिन हो ना हो चाहे तेरी जुल्फों को पढ़ना अब !
गजरे की महक लेकिन बहारों से समझ लेंगे !!

कलेजे में दबे चाहे हों तेरे राज़ जितने भी !
तड़फ़ तेरी ये जख्मों की दरारों से समझ लेंगे !!

तेरे भावुक से चहेरे पर भले अम्बर सी काया हो !
चंदा सी कशिश लेकिन सितारों से समझ लेंगे !!

1 Like · 1 Comment · 601 Views
You may also like:
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
प्यार
Anamika Singh
पिता
Manisha Manjari
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
Security Guard
Buddha Prakash
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे पापा मेरे !
Kuldeep mishra (KD)
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बुआ आई
राजेश 'ललित'
पिता का दर्द
Nitu Sah
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
Loading...