Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Feb 2022 · 1 min read

ग़ज़ल- क्यों देखते ही देखते मंज़र बदल गए…

क्यों देखते ही देखते मंज़र बदल गए।
क़ुदरत न बदली आपके तेवर बदल गए।।

सबका मक़ाम एक है क्यों घर बदल गए।
बदले न रूह ऐ कभी पैकर बदल गए।।

मालिक सभी का एक है दाता ज़हान का।
फिर क्यों हमारे आपके परवर बदल गए।।

सूरज व चांद एक धुरी पर ही घूमते।
बस घूमती धरा के ही मेहवर बदल गए।।

ज़ुल्मी तुम्हारे ज़ुल्म का अब इंतकाम है।
बदली न पीठ हाथ के ख़ंजर बदल गए।।

परवरदिगार-रूह में जब दिलबरी रही।
आते ही क्यों ज़हान में दिलबर बदल गए।

सबको ख़ुदा ने एक सा इंसां बनाया था।
बदले जो कर्म अपने मुकद्दर बदल गए।।

ग़ज़लें सुख़न के क़ायदों से ही चलें सदा।
पर ‘कल्प’ जैसे कितने सुख़न-वर बदल गए।।

✍ अरविंद राजपूत ‘कल्प’

328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्त वक्त की बात है ,
वक्त वक्त की बात है ,
Yogendra Chaturwedi
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
*दिल का आदाब ले जाना*
*दिल का आदाब ले जाना*
sudhir kumar
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
वर्ल्ड रिकॉर्ड 2
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*चलती का नाम गाड़ी* 【 _कुंडलिया_ 】
*चलती का नाम गाड़ी* 【 _कुंडलिया_ 】
Ravi Prakash
मुरली कि धुन
मुरली कि धुन
Anil chobisa
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr. Priya Gupta
---- विश्वगुरु ----
---- विश्वगुरु ----
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
सूर्य देव की अरुणिम आभा से दिव्य आलोकित है!
Bodhisatva kastooriya
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
तू गीत ग़ज़ल उन्वान प्रिय।
Neelam Sharma
بدلتا ہے
بدلتا ہے
Dr fauzia Naseem shad
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
VINOD CHAUHAN
■ एक मिसाल...
■ एक मिसाल...
*प्रणय प्रभात*
जय मां शारदे
जय मां शारदे
Harminder Kaur
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
ग़ज़ल _ मुझे मालूम उल्फत भी बढ़ी तकरार से लेकिन ।
Neelofar Khan
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
3474🌷 *पूर्णिका* 🌷
3474🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महायुद्ध में यूँ पड़ी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आज़ादी के दीवानों ने
आज़ादी के दीवानों ने
करन ''केसरा''
बदनाम से
बदनाम से
विजय कुमार नामदेव
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
प्रतीक्षा, प्रतियोगिता, प्रतिस्पर्धा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बातें करते प्यार की,
बातें करते प्यार की,
sushil sarna
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
Shweta Soni
"याद रहे"
Dr. Kishan tandon kranti
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...