Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब

गले लगाना है तो उस गरीब को गले लगाओ साहिब
ना जिसके पास रहने को छत है
ना मां बाप का साया
ये सप्ताह हो अमीरों का है साहिब
हम गरीबों के पास तो दो वक्त का
भोजन नसीब नहीं
संस्कार ,सभ्यता,
और चरित्र की मर्यादा का पालन करना सीखो
अमीरों की सभ्यता मत अपनाओ
नही तो आने वाली पीढ़ी आपको
ठुकराएगी

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
जमाना नहीं शराफ़त का (सामायिक कविता)
Dr. Kishan Karigar
माँ बाप बिना जीवन
माँ बाप बिना जीवन
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
Rj Anand Prajapati
* विजयदशमी *
* विजयदशमी *
surenderpal vaidya
दो घूंट
दो घूंट
संजय कुमार संजू
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
3287.*पूर्णिका*
3287.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बोलो क्या लफड़ा है
बोलो क्या लफड़ा है
gurudeenverma198
"तुझे चाहिए क्या मुझमें"
Dr. Kishan tandon kranti
*याद  तेरी  यार  आती है*
*याद तेरी यार आती है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
फेर रहे हैं आंख
फेर रहे हैं आंख
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
प्यार भी खार हो तो प्यार की जरूरत क्या है।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
इतना बेबस हो गया हूं मैं
इतना बेबस हो गया हूं मैं
Keshav kishor Kumar
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
⚘छंद-भद्रिका वर्णवृत्त⚘
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शोहरत
शोहरत
Neeraj Agarwal
■ आज का शेर अपने यक़ीन के नाम।
■ आज का शेर अपने यक़ीन के नाम।
*प्रणय प्रभात*
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
जो वक्त से आगे चलते हैं, अक्सर लोग उनके पीछे चलते हैं।।
Lokesh Sharma
पहली दस्तक
पहली दस्तक
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
पन्नें
पन्नें
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
विषय- सत्य की जीत
विषय- सत्य की जीत
rekha mohan
*शादी के पहले, शादी के बाद*
*शादी के पहले, शादी के बाद*
Dushyant Kumar
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
हाँ मैन मुर्ख हु
हाँ मैन मुर्ख हु
भरत कुमार सोलंकी
Loading...