Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Aug 2016 · 1 min read

गर दे एक ही वजह तू मुस्कराने की

गर दे इक ही वजह तू मुस्कराने की
वार दूँ मै तुझपे हर ख़ुशी जमाने की
**************************
लिख दूं मै हर इक साँस पे नाम तेरा
गर रख ले दिल में जगह तू दीवाने की
****************************
कपिल कुमार
01/08/2016

Language: Hindi
468 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*सब जग में सिरमौर हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम (गीत)*
*सब जग में सिरमौर हमारा, तीर्थ अयोध्या धाम (गीत)*
Ravi Prakash
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
एक दिया बुझा करके तुम दूसरा दिया जला बेठे
कवि दीपक बवेजा
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
किसी की हिफाजत में,
किसी की हिफाजत में,
Dr. Man Mohan Krishna
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
इस दुनिया की सारी चीज भौतिक जीवन में केवल रुपए से जुड़ी ( कन
Rj Anand Prajapati
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Dr Arun Kumar Shastri
Dr Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इक तेरे सिवा
इक तेरे सिवा
Dr.Pratibha Prakash
💐प्रेम कौतुक-262💐
💐प्रेम कौतुक-262💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
अजन्मी बेटी का प्रश्न!
Anamika Singh
अगर आज किसी को परेशान कर रहे
अगर आज किसी को परेशान कर रहे
Ranjeet kumar patre
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
आप और हम जीवन के सच....…...एक कल्पना विचार
Neeraj Agarwal
मैं मधुर भाषा हिन्दी
मैं मधुर भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Santosh Khanna (world record holder)
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
फिर बैठ गया हूं, सांझ के साथ
Smriti Singh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
निज धृत
निज धृत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गुलाबी शहतूत से होंठ
गुलाबी शहतूत से होंठ
हिमांशु Kulshrestha
-जीना यूं
-जीना यूं
Seema gupta,Alwar
जहाँ से आये हो
जहाँ से आये हो
Dr fauzia Naseem shad
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
2346.पूर्णिका
2346.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
सत्य कड़वा नहीं होता अपितु
Gouri tiwari
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
■ तस्वीर काल्पनिक, शेर सच्चा।
*Author प्रणय प्रभात*
हाँ, तैयार हूँ मैं
हाँ, तैयार हूँ मैं
gurudeenverma198
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
Loading...