Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Feb 2024 · 1 min read

गरीबी और लाचारी

“गरीबी और लाचारी”
गरीबी और तंगहाली के कैसे कैसे रंग हैं,
कोई मर रहा भुखमरी में तो कोई पैसों से तंग है।
मजबूरियां गरीब बच्चे को भी जिम्मेदार बनाती हैं,
चाहे कितनी लाचारी हो कमाना सिखाती है।
गरीब इंसान मजबूरी के हाशिए पर चलता है,
अमीर तो बाप कमाई की अय्याशियों पर पलता है।
कुछ शराब के प्याले छलकाते अल्हड़ जवानी में,
तो कुछ अपनी प्यास बुझाते नदी नालों के पानी में।
दो वक्त की रोटी के भी कुछ को लाले पड़ जाते हैं,
कुछ लोग तो सोने चांदी के थाली में खाते हैं।
किसी के पास सर छुपाने को छोटी जगह नहीं,
किसी के बंगलों के लिए छूटी कोई जगह नहीं।
हे ईश्वर ये तेरा कैसा इंसाफ तेरी कैसी माया है,
कुछ खाली हाथ रह जाते कुछ ने सिर्फ पाया ही पाया है।।
✍️ मुकेश कुमार सोनकर, रायपुर छत्तीसगढ़

1 Like · 93 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
*प्रणय प्रभात*
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
इजोत
इजोत
श्रीहर्ष आचार्य
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
खुद से उम्मीद लगाओगे तो खुद को निखार पाओगे
ruby kumari
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
दहलीज़ पराई हो गई जब से बिदाई हो गई
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
घोसी                      क्या कह  रहा है
घोसी क्या कह रहा है
Rajan Singh
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
रद्दी के भाव बिक गयी मोहब्बत मेरी
Abhishek prabal
मेघ गोरे हुए साँवरे
मेघ गोरे हुए साँवरे
Dr Archana Gupta
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
फागुन (मतगयंद सवैया छंद)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"बेल"
Dr. Kishan tandon kranti
जीत मुश्किल नहीं
जीत मुश्किल नहीं
Surinder blackpen
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
किसी के साथ सोना और किसी का होना दोनों में ज़मीन आसमान का फर
Rj Anand Prajapati
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
शिक्षक (कुंडलिया )
शिक्षक (कुंडलिया )
Ravi Prakash
अपने होने की
अपने होने की
Dr fauzia Naseem shad
" छोटा सिक्का"
Dr Meenu Poonia
शीतलहर
शीतलहर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
अहंकार
अहंकार
Bindesh kumar jha
कुछ मुक्तक...
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़ज़ल(इश्क में घुल गयी वो ,डली ज़िन्दगी --)
ग़ज़ल(इश्क में घुल गयी वो ,डली ज़िन्दगी --)
डॉक्टर रागिनी
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अपनी हीं क़ैद में हूँ
अपनी हीं क़ैद में हूँ
Shweta Soni
लोग कहते ही दो दिन की है ,
लोग कहते ही दो दिन की है ,
Sumer sinh
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
Loading...