Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Sep 2022 · 3 min read

गरीबी और भूख:समाधान क्या है ?

बहुत अफसोस होता है कि हमारा देश, जो कभी सोने की चिड़िया के नाम से जाना जाता था, आज वही देश भूख, गरीबी, बेरोजगारी, जनसंख्या वृद्धि जैसी न जाने कितनी समस्याओं से घिरा हुआ है। यह वास्तविकता अपनी जगह है कि आज आर्थिक दृष्टिकोण से हमारा देश प्रगति की ओर अग्रसर है, फिर उसी देश के निवासियों का भूख से दम तोड़ना हमारी आर्थिक उन्नति पर ही नहीं, बल्कि इस समस्या के समाधान के लिए किये गये प्रयासों पर भी प्रश्नचिन्ह लगाता है। आश्चर्य भी होता है कि गरीबी उन्मूलन और खाद्य सहायता कार्यक्रमों पर करोड़ों व्यय करने के उपरांत भी ये समस्या कम होने के विपरीत दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है!
यह कड़वी हकीकत भी अपनी जगह है कि हर साल सरकार की लापरवाही, गलत नीतियाँ व भंडारण की ठीक से व्यावस्था न होने के कारण लाखों टन अनाज जरूरतमंदों तक पहुँचने से पहले ही बारिश से नष्ट हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप न जाने कितने अभागे भूख-भूख चिल्लाते इस दुनिया से विदा हो जाते हैं। तरक्की के इस दौर में आज भी कूड़े के ढेर से रिजक तलाशते, कूड़ा बीनते असंख्य बूढ़े, बच्चे, जवान नज़र आते हैं, जो हमारे इन्सान होने पर प्रश्नचिन्ह लगाते हैं। हम सभी का नैतिक कर्त्तव्य बनता है कि हम दूसरे इन्सान की तकलीफ को समझें, उसे दूर करने का माध्यम बनें, क्योंकि इससे बढ़कर कोई इबादत, कोई तपस्या नहीं हो सकती।
इस बात में भी कोई दो राय नहीं है कि ये समस्या तब तक बनी रहेगी, जब तक अमीर और अमीर, गरीब और गरीब बनता चला जायेगा। पर लगता नहीं कि अमीर और अमीर बनने की लालसा को छोड़कर किसी गरीब को अमीर बनाने का प्रयास करेगा। इस बात को दरकिनार कर भी दिया जाये, तो यह वास्तविकता भी अपनी जगह चौंकाने वाली है कि जो देश भूखमरी की समस्या से ग्रस्त है, वहाँ पर अन्न की बरबादी भी बड़े पैमाने पर होती है – चाहे विवाह समारोह हों, सामाजिक कार्यक्रमों व होटलों में बनने वाला भोजन हो या घरों में बचकर फिकने वाला भोजन हो। जरूरतमंद तक पहुँचने के उपयुक्त माध्यम न होने के कारण इतना अन्न कूड़े में फेंक दिया जाता है, जो एक तरह से इस भूख की समस्या को गंभीर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
इसलिए सरकार को चाहिए कि अगर वो इस समस्या का कोई उचित समाधान नहीं निकाल सकती है, तो कम से कम व्यर्थ जाने वाले भोजन को जरूरतमंदों तक पहुँचाने का ही उचित प्रबंध करा दे, ताकि अन्न की बरबादी भी न हो और कोई भूख की वजह से अकाल मृत्यु को प्राप्त न हो, महिलाओं को भी चाहिए कि वो भोजन हमेशा आवश्यकतानुसार ही बनायें और थाली में भी उतना ही भोजन परोसें जितनी आपकी भूख हो । यथासंभव कोशिश करें कि भोजन कूड़े में न फेंकना पड़े। अपने स्तर पर कोशिश करके बचे हुए भोजन को जरूरतमंद तक पहुँचा दें। ऐसा करने से जहाँ अन्न की बरबादी नहीं होगी, वहीं भूखे को खाना खिलाने से आपको जो आत्मसंतुष्टि मिलेगी, उसकी अनुभूति निश्चित ही आपको अपने इन्सान होने पर गर्व करने का अवसर प्रदान करेगी।
व्यक्तिगत रूप से अगर हम सभी अपने स्तर से प्रयास करें, तो इस भूख जैसी गंभीर मानव अस्तित्व से जुड़ी समस्या का पूरा न सही थोड़ा हल तो अवश्य निकल ही सकता है। सबसे पहले हमें इस बात को अच्छे से समझना होगा कि इस समस्या का समाधान भूखे लोगों को एक वक्त या दो वक्त का या हमेशा पका पकाया खाना खिलाने से नहीं होगा बल्कि रोजगार देने से होगा, उनमें आत्मसम्मान की भावना को जाग्रत करने से होगा, उनकी सार्थक सहायता करने से होगा; और वह तब होगा, जब हम चंद सिक्कों को दान में देने की बजाय सम्मिलित रूप से किसी एक जरूरतमंद को रोजगार से लगाने में सहायता करें या स्वयं रोजगार दें। तभी निश्चितरूप से हमें इस समस्या के समाधान का सकारात्मक बदलाव देखने को मिलेगा।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: लेख
8 Likes · 587 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
2583.पूर्णिका
2583.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
आप खास बनो में आम आदमी ही सही
मानक लाल मनु
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30  न
अगहन माह के प्रत्येक गुरुवार का विशेष महत्व है। इस साल 30 न
Shashi kala vyas
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
अबस ही डर रहा था अब तलक मैं
Neeraj Naveed
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
Ranjeet kumar patre
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*प्रणय प्रभात*
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
*भक्ति के दोहे*
*भक्ति के दोहे*
Ravi Prakash
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
एहसास
एहसास
Er.Navaneet R Shandily
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
सूझ बूझ
सूझ बूझ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आग और पानी 🙏
आग और पानी 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
इश्क में तेरे
इश्क में तेरे
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
दूरदर्शिता~
दूरदर्शिता~
दिनेश एल० "जैहिंद"
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
कृष्णकांत गुर्जर
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
समझ आती नहीं है
समझ आती नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
एक बेजुबान की डायरी
एक बेजुबान की डायरी
Dr. Kishan tandon kranti
आसमाँ .......
आसमाँ .......
sushil sarna
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
"पिता दिवस: एक दिन का दिखावा, 364 दिन की शिकायतें"
Dr Mukesh 'Aseemit'
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
कभी अपने लिए खुशियों के गुलदस्ते नहीं चुनते,
Shweta Soni
!! दिल के कोने में !!
!! दिल के कोने में !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...