Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jun 2023 · 1 min read

गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)

गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)
————————————————————-
गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल
पतले – आलू रायता , गंगाफल का मेल
गंगाफल का मेल , श्रेष्ठतम भोज कहाता
मिलता यह जिस रोज ,भाग्यफल खिल-खिल जाता
कहते रवि कविराय , प्लेट हलवे की दौड़ी
खा कर मन है तृप्त , धन्य हे गरम कचौड़ी
—————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

220 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हम तो कवि है
हम तो कवि है
नन्दलाल सुथार "राही"
" मैं तो लिखता जाऊँगा "
DrLakshman Jha Parimal
"होरी"
Dr. Kishan tandon kranti
अपनों की ठांव .....
अपनों की ठांव .....
Awadhesh Kumar Singh
रैन बसेरा
रैन बसेरा
Shekhar Chandra Mitra
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
दिल का हाल
दिल का हाल
पूर्वार्थ
माँ महान है
माँ महान है
Dr. Man Mohan Krishna
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
अच्छा स्वस्थ स्वच्छ विचार ही आपको आत्मनिर्भर बनाते है।
Rj Anand Prajapati
"परखना "
Yogendra Chaturwedi
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
अंतिम युग कलियुग मानो, इसमें अँधकार चरम पर होगा।
आर.एस. 'प्रीतम'
रिश्ते
रिश्ते
Harish Chandra Pande
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
दीवारों की चुप्पी में राज हैं दर्द है
Sangeeta Beniwal
तुझमें : मैं
तुझमें : मैं
Dr.Pratibha Prakash
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
भीड़ ने भीड़ से पूछा कि यह भीड़ क्यों लगी है? तो भीड़ ने भीड
जय लगन कुमार हैप्पी
मेरे प्रभु राम आए हैं
मेरे प्रभु राम आए हैं
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
इसमें हमारा जाता भी क्या है
इसमें हमारा जाता भी क्या है
gurudeenverma198
हे देश मेरे
हे देश मेरे
Satish Srijan
कजरी
कजरी
प्रीतम श्रावस्तवी
मुश्किलें हौसलों को मिलती हैं
मुश्किलें हौसलों को मिलती हैं
Dr fauzia Naseem shad
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
*जहाँ पर घर नहीं बसते, वहीं पर वृद्ध-आश्रम हैं(मुक्तक)*
*जहाँ पर घर नहीं बसते, वहीं पर वृद्ध-आश्रम हैं(मुक्तक)*
Ravi Prakash
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
जब भी आप निराशा के दौर से गुजर रहे हों, तब आप किसी गमगीन के
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
वो,
वो,
हिमांशु Kulshrestha
2795. *पूर्णिका*
2795. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...