Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Dec 2023 · 1 min read

गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।

#मुक्तक

गम के आगे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
मौत से ही जिंदगी है जिंदगी कहने लगी।
चाहे कितना हो अंधेरा थाम ले दामन मेरा।
यार तू डरना नहीं ये रोशनी कहने लगी।

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

Language: Hindi
84 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
*श्री महेश राही जी (श्रद्धाँजलि/गीतिका)*
Ravi Prakash
ससुराल गेंदा फूल
ससुराल गेंदा फूल
Seema gupta,Alwar
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
पश्चाताप का खजाना
पश्चाताप का खजाना
अशोक कुमार ढोरिया
पूस की रात।
पूस की रात।
Anil Mishra Prahari
अछूत....
अछूत....
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
सत्य, अहिंसा, त्याग, तप, दान, दया की खान।
जगदीश शर्मा सहज
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
VINOD CHAUHAN
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
*वह बिटिया थी*
*वह बिटिया थी*
Mukta Rashmi
वाणी में शालीनता ,
वाणी में शालीनता ,
sushil sarna
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
डिप्रेशन का माप
डिप्रेशन का माप
Dr. Kishan tandon kranti
योग
योग
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
मोलभाव
मोलभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
‘ विरोधरस ‘---7. || विरोधरस के अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---7. || विरोधरस के अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
एक साक्षात्कार - चाँद के साथ
Atul "Krishn"
3059.*पूर्णिका*
3059.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*संतुष्ट मन*
*संतुष्ट मन*
Shashi kala vyas
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
हर एक रास्ते की तकल्लुफ कौन देता है..........
कवि दीपक बवेजा
तुम क्या हो .....
तुम क्या हो ....." एक राजा "
Rohit yadav
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात  ही क्या है,
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात ही क्या है,
Shreedhar
The Day I Wore My Mother's Saree!
The Day I Wore My Mother's Saree!
R. H. SRIDEVI
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*नुक्कड़ की चाय*
*नुक्कड़ की चाय*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जो जिस चीज़ को तरसा है,
जो जिस चीज़ को तरसा है,
Pramila sultan
Loading...