Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

#गद्य_छाप_पद्य

#गद्य_छाप_पद्य
■ मत का मूल्य सिफर
【प्रणय प्रभात】

“एक परिवार में छह सदस्य
अक़ल के मामले में,
पूरे के पूरे विलायती।
मतलब छहों के छहों,
अलग-अलग पार्टियों के
पक्के हिमायती।
पहला भाजपा का,
दूसरा कांग्रेस का,
तीसरा सपा का,
चौथा बसपा का,
पांचवा आप का और
छठा नहीं अपने बाप का।
यानि चहेता किसी निर्दलीय का।
कर के आ गए मतदान
पर किसी को नहीं रहा ये ध्यान।
सियासी दलों के घालमेल में
अर्थात मत विभाजन के खेल में।
हरेक का अमूल्य मत,
अपना मूल्य खो गया।
यानि हर मत का मूल्य,
शून्य बटा सिफर हो गया।।
जागो विवेकहीनों जागो!
मिल कर विचार करो,
किसी एक का प्रचार करो।
एकमत बना कर
किसी को भी जिताओ,
पर लूली-लंगड़ी,
त्रिशंकु सरकार मत लाओ।
वरना हाथ आए अवसर से,
यक़ीनन हाथ धोओगे
और पूरे पांच साल रोओगे।
■प्रणय प्रभात■
श्योपुर (मध्यप्रदेश)

1 Like · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
कर दो बहाल पुरानी पेंशन
gurudeenverma198
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
*रिमझिम-रिमझिम बूॅंदें बरसीं, गाते मेघ-मल्हार (गीत)*
Ravi Prakash
मुक्तक।
मुक्तक।
Pankaj sharma Tarun
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
चालवाजी से तो अच्छा है
चालवाजी से तो अच्छा है
Satish Srijan
😊आज के दो रंग😊
😊आज के दो रंग😊
*Author प्रणय प्रभात*
डाल-डाल तुम हो कर आओ
डाल-डाल तुम हो कर आओ
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
2608.पूर्णिका
2608.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दुआ के हाथ
दुआ के हाथ
Shekhar Chandra Mitra
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
दीपावली
दीपावली
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
समय को समय देकर तो देखो, एक दिन सवालों के जवाब ये लाएगा,
Manisha Manjari
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
माथे की बिंदिया
माथे की बिंदिया
Pankaj Bindas
परवरिश
परवरिश
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बंदूक की गोली से,
बंदूक की गोली से,
नेताम आर सी
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
रंगों का कोई धर्म नहीं होता होली हमें यही सिखाती है ..
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
अब कुछ बचा नहीं बिकने को बाजार में
Ashish shukla
रंगो ने दिलाई पहचान
रंगो ने दिलाई पहचान
Nasib Sabharwal
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
हो सकता है कि अपनी खुशी के लिए कभी कभी कुछ प्राप्त करने की ज
Paras Nath Jha
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
रात स्वप्न में दादी आई।
रात स्वप्न में दादी आई।
Vedha Singh
बनारस की ढलती शाम,
बनारस की ढलती शाम,
Sahil Ahmad
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
Loading...