Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Aug 2022 · 1 min read

गणपति स्वागत है

द्वार- द्वार वंदनवार सजे ,
सिद्ध शुभागत है।
धन्य भाग्य जो घर पर आये ,
गणपति स्वागत है ।।

भाद्र चतुर्थी आप पधारे ,
मन प्रमुदित अपना ।
लड्डू तुमको भोग लगाऊँ ,
तृप्त हुए नयना ।।

पंचामृत से करूँ आचमन ,
रूप नवागत है ।
धन्य भाग जो घर पर आये ,
गणपति स्वागत है ।।

लाल मखमली चौक विराजो ,
शिवनंदन वदना ।
वक्रतुंड शुभ मंगल दाता ,
अभिनन्दन रचना ।।

श्रध्दा सुमन देव स्वीकारो ,
शुचिता आगत है ।
धन्य भाग जो घर पर आये ,
गणपति स्वागत है ।।

सहस नाम का गाऊँ मंगल
शुभ कारज करिए ।
धूप दीप अरु भोग चढ़ाऊँ ,
विघ्न सकल हरिए ।।

तेरी कृपा दृष्टि से पाऊँ ,
यहाँ तथागत है ।
धन्य भाग जो घर पर आये ,
गणपति स्वागत है ।।

—– डॉ सुनीता सिंह ” सुधा “वाराणसी
©®

Language: Hindi
270 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Sunita Singh
View all
You may also like:
हिन्दी दोहे- चांदी
हिन्दी दोहे- चांदी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अपने  ही  हाथों  से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
अपने ही हाथों से अपना, जिगर जलाए बैठे हैं,
Ashok deep
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आत्म ग्लानि
आत्म ग्लानि
Shekhar Chandra Mitra
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
शौक में नहीं उड़ता है वो, उड़ना उसकी फक्र पहचान है,
manjula chauhan
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
चॉकलेट
चॉकलेट
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
काहे का अभिमान
काहे का अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
आरक्षण का दरिया
आरक्षण का दरिया
मनोज कर्ण
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
फूल से आशिकी का हुनर सीख ले
Surinder blackpen
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
।। समीक्षा ।।
।। समीक्षा ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
दर्शन की ललक
दर्शन की ललक
Neelam Sharma
आंखों से बयां नहीं होते
आंखों से बयां नहीं होते
Harminder Kaur
अपने  में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
अपने में वो मस्त हैं ,दूसरों की परवाह नहीं ,मित्रता में रहक
DrLakshman Jha Parimal
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम ही जीवन है।
प्रेम ही जीवन है।
Acharya Rama Nand Mandal
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
जिस तरह से बिना चाहे ग़म मिल जाते है
shabina. Naaz
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
*ख़ुशी की बछिया* ( 15 of 25 )
Kshma Urmila
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
प्रभु के प्रति रहें कृतज्ञ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कविता -
कविता - "सर्दी की रातें"
Anand Sharma
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
हे ईश्वर किसी की इतनी भी परीक्षा न लें
Gouri tiwari
Loading...