Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Mar 2017 · 1 min read

(((( गणतंत्र ))))

[[[ गणतंत्र ]]]

डा० भीम राव अाम्बेडकर
रचयिता भारती-संविधान के ||
राष्ट्रपति डा० राजेंद्र प्रसाद
संरक्षक रहे इस विधान के ||

महात्मा गाँधी की छत्रछाया में
सन् २६ जनवरी १९५० ई• को ||
चाचा नेहरू के शासन काल में
सम्मान मिला इस संविधान को ||

भारत फिर गणतंत्र-गणराज
कहलाया दुनिया की नजरों में ||
जनता हेतु जनता का शासन
तब शुरू हुआ इन जनतंत्रों में ||

गणतंत्र माने जनता का राज,
संविधान माने है सम समाज ||
जनता राजा हों राजा सेवक,,
यही है गणतंत्र का आगाज़ ||

कर्तव्य हमारा अब इतना है
कि इसकी हम मर्यादा बना रखें ||
जब तक तन में जान शेष है
इसकी आन-बान-शान जगा रखें ||

=================
#दिनेश एल० ” जैहिंद”
26. 01. 2017

Language: Hindi
330 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
नहीं मतलब अब तुमसे, नहीं बात तुमसे करना
gurudeenverma198
"" *गीता पढ़ें, पढ़ाएं और जीवन में लाएं* ""
सुनीलानंद महंत
वातावरण चितचोर
वातावरण चितचोर
surenderpal vaidya
मालिक मेरे करना सहारा ।
मालिक मेरे करना सहारा ।
Buddha Prakash
#देसी ग़ज़ल
#देसी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
हिमांशु Kulshrestha
अंजाम
अंजाम
Bodhisatva kastooriya
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
*जातक या संसार मा*
*जातक या संसार मा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
हंसना आसान मुस्कुराना कठिन लगता है
Manoj Mahato
गांव अच्छे हैं।
गांव अच्छे हैं।
Amrit Lal
चाहत
चाहत
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
राम छोड़ ना कोई हमारे..
राम छोड़ ना कोई हमारे..
Vijay kumar Pandey
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
*छोड़कर जब माँ को जातीं, बेटियाँ ससुराल में ( हिंदी गजल/गीति
Ravi Prakash
"तापमान"
Dr. Kishan tandon kranti
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
Neelam Sharma
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
कसूर उनका नहीं मेरा ही था,
Vishal babu (vishu)
नहीं-नहीं प्रिये
नहीं-नहीं प्रिये
Pratibha Pandey
2995.*पूर्णिका*
2995.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
तूझे क़ैद कर रखूं ऐसा मेरी चाहत नहीं है
Keshav kishor Kumar
शिक्षा व्यवस्था
शिक्षा व्यवस्था
Anjana banda
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
भारत कि गौरव गरिमा गान लिखूंगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
जल जंगल जमीन जानवर खा गया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नता गोता
नता गोता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
असफल लोगो के पास भी थोड़ा बैठा करो
पूर्वार्थ
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
Loading...