Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2024 · 1 min read

गणतंत्र

आज बहुत पावन दिवस, आया है गणतंत्र।
अमर तिरंगा देश का,गाओ गौरव मंत्र।।

आज दिवस गणतंत्र है, जिस पर हमको गर्व।
देशभक्ति बलिदान की ,यह वीरों का पर्व।।

हम सब को गणतंत्र से, मिला नया उत्कर्ष।
इसको पाने के लिए, किये बहुत संघर्ष।।

शूर वीर की वीरता, आजादी का मंत्र।
त्याग-शांति का देश यह, इक अभिनव गणतंत्र।।

अपना भारत देश है, पूर्ण रूप स्वतंत्र।
क्योंकि सभी को है मिला,लोकतंत्र का मंत्र।।

बहुत मनन चिन्तन हुआ,बना तभी गणतंत्र।
परम धर्म है एकता,भाईचारा मंत्र।।

पुरखों के बलिदान से,भारत हुआ स्वतंत्र।
एक सूत्र में बाँधता,ये अपना गणतंत्र।।

भारत के गणतंत्र का,रहा जगत में मान।।
दशो दिशा में गूँजता,भारत का यशगान।।

सब मिलकर फिर से रचे, एक नया गणतंत्र।
देशभक्ति जिससे बढ़े, मिट जाये षडयंत्र।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
77 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
■ अड़ियल टेसू सत्ता के
■ अड़ियल टेसू सत्ता के
*Author प्रणय प्रभात*
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
जिसका इन्तजार हो उसका दीदार हो जाए,
डी. के. निवातिया
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
Gouri tiwari
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
क्रोध को नियंत्रित कर अगर उसे सही दिशा दे दिया जाय तो असंभव
Paras Nath Jha
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Apne man ki bhawnao ko , shabdo ke madhyam se , kalpanikta k
Sakshi Tripathi
दिल शीशे सा
दिल शीशे सा
Neeraj Agarwal
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
आज वो दौर है जब जिम करने वाला व्यक्ति महंगी कारें खरीद रहा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
तेरे लिखे में आग लगे / © MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
2753. *पूर्णिका*
2753. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
जो ख्वाब में मिलते हैं ...
लक्ष्मी सिंह
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
दिव्य-भव्य-नव्य अयोध्या
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी  किसी के साथ प्रेम ,  किस
एक ही निश्चित समय पर कोई भी प्राणी किसी के साथ प्रेम , किस
Seema Verma
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रेम
प्रेम
Rashmi Sanjay
💃युवती💃
💃युवती💃
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
चाय और गपशप
चाय और गपशप
Seema gupta,Alwar
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
Shubham Pandey (S P)
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
तमाम कोशिशें की, कुछ हाथ ना लगा
कवि दीपक बवेजा
जब कभी प्यार  की वकालत होगी
जब कभी प्यार की वकालत होगी
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आना-जाना चल रहा, रोजाना का काम (कुंडलिया)
आना-जाना चल रहा, रोजाना का काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
ज़हर क्यों पी लिया
ज़हर क्यों पी लिया
Surinder blackpen
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
कवियों का अपना गम...
कवियों का अपना गम...
goutam shaw
वक्त लगता है
वक्त लगता है
Vandna Thakur
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
అదే శ్రీ రామ ధ్యానము...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
संवेदनशील होना किसी भी व्यक्ति के जीवन का महान गुण है।
Mohan Pandey
गजब है उनकी सादगी
गजब है उनकी सादगी
sushil sarna
Loading...