Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jan 2017 · 1 min read

गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस है , राष्ट्रीय पर्व प्यारा
इसी दिन हुआ लागू , संविधान हमारा
सन् तीस में इसी दिन,मना स्वाधीनता दिवस
पूर्ण स्वराज के संदेश से, झूमा हिन्दूस्तान सारा

आज के दिन शपथ ले ले, भारतवासी हरेक
हम अनेक हैं पर एक रहेंगे, और बनेंगे नेक
देश की रक्षा के खातिर हम, अपना लहू बहाएँगे
और मरते दम तक हम अपना तिरंगा लहराएँगे

आज याद करो सब, शहीदों के बलिदान को
याद करलो अब , नेताजी के तुलादान को
याद करलो भगतसिंह और आजाद को
अब जगा लो अपने स्वाभिमान को

है विश्व गुरू, है महान , अपना भारत देश
यहाँ भिन्न – भिन्न व्यक्ति, हैं भिन्न – भिन्न वेष
अनेकता में एकता का सिद्धांत हमारा
अपना भारत देश हमें प्राणों से भी प्यारा

हम संकल्प लें आज कि भारत को अखंड बनाएँगे
अपने प्यारे भारत को हम स्वच्छ बनाएँगे
मतदान कर हम प्रजातंत्र का लाभ उठाएँगे
हम अपने वतन पर मर मिट जाएँगे

– नवीन कुमार जैन

Language: Hindi
285 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
मंत्र: सिद्ध गंधर्व यक्षाधैसुरैरमरैरपि। सेव्यमाना सदा भूयात्
Harminder Kaur
कुपमंडुक
कुपमंडुक
Rajeev Dutta
कुछ समय पहले तक
कुछ समय पहले तक
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
जिन्दगी की पाठशाला
जिन्दगी की पाठशाला
Ashokatv
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
(25) यह जीवन की साँझ, और यह लम्बा रस्ता !
Kishore Nigam
*नेकलेस (कहानी)*
*नेकलेस (कहानी)*
Ravi Prakash
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ये हवा ये मौसम ये रुत मस्तानी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
एक तू ही नहीं बढ़ रहा , मंजिल की तरफ
कवि दीपक बवेजा
*खोटा था अपना सिक्का*
*खोटा था अपना सिक्का*
Poonam Matia
सुकर्मों से मिलती है
सुकर्मों से मिलती है
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/229. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुछ नहीं.......!
कुछ नहीं.......!
विमला महरिया मौज
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
* ऋतुराज *
* ऋतुराज *
surenderpal vaidya
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
Phool gufran
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
मैंने चांद से पूछा चहरे पर ये धब्बे क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
तलाश हमें  मौके की नहीं मुलाकात की है
तलाश हमें मौके की नहीं मुलाकात की है
Tushar Singh
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
।। निरर्थक शिकायतें ।।
।। निरर्थक शिकायतें ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Life
Life
C.K. Soni
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
काव्य_दोष_(जिनको_दोहा_छंद_में_प्रमुखता_से_दूर_रखने_ का_ प्रयास_करना_चाहिए)*
Subhash Singhai
पावन सावन मास में
पावन सावन मास में
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
प्यार के सरोवर मे पतवार होगया।
Anil chobisa
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नारी जीवन की धारा
नारी जीवन की धारा
Buddha Prakash
Loading...