Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

“गणतंत्र दिवस”

“गणतंत्र दिवस”

‘आजाद’ होकर भी, जब ‘गुलामी’ थी;
सन् पैंतीस की , वो विधान पुरानी थी;
निज देश की, सदा बहुत बदनामी थी;
हिन्दुस्तान को भी,पहचान बनानी थी।

टिकी नजर, एक विधान की आस में;
तब चली, हवा ‘बसंती’ सन् पचास में;
‘बाबू साहेब’ ने, तब एक सभा बुलाई;
‘बाबा साहेब’ से, ‘संविधान’ लिखवाई।

झूम उठे थे तब तो, हरेक ‘भारतवासी’
जब ‘भारत’ ने त्यागा , ‘विधान’ बासी;
फिर तो बन गया था,अपना ‘संविधान’
बढ़ गया पूरे जग में, ‘भारत’ का मान।

अब इसे , लागू करने की थी हड़बड़ी;
तब तय हुई , तिथि ‘छब्बीस जनवरी’
साल था वह , सन् ‘उन्नीस सौ पचास’
आज निज ‘कानून’ था,’देश’ के पास।

आज चली थी, अंग्रेजी कानून पे डंडा;
जन-गण ने फहराया था, आज तिरंगा;
फिर सबने , मिल खूब खुशियां मनाई;
यही तारीख, ‘गणतंत्र दिवस’ कहलाई।
°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°
स्वरचित सह मौलिक
…..✍️ पंकज ‘कर्ण’
…………कटिहार।।

Language: Hindi
389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from पंकज कुमार कर्ण
View all
You may also like:
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
लक्ष्मी सिंह
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
*Hey You*
*Hey You*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
श्री बिष्णु अवतार विश्व कर्मा
श्री बिष्णु अवतार विश्व कर्मा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
करुंगा अब मैं वही, मुझको पसंद जो होगा
gurudeenverma198
उधेड़बुन
उधेड़बुन
मनोज कर्ण
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
बीरबल जैसा तेज तर्रार चालाक और समझदार लोग आज भी होंगे इस दुन
Dr. Man Mohan Krishna
इतना आसान होता
इतना आसान होता
हिमांशु Kulshrestha
बादलों को आज आने दीजिए।
बादलों को आज आने दीजिए।
surenderpal vaidya
परत
परत
शेखर सिंह
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
टेढ़े-मेढ़े दांत वालीं
The_dk_poetry
त्योहार
त्योहार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गुमनाम राही
गुमनाम राही
AMRESH KUMAR VERMA
■ सनातन सत्य...
■ सनातन सत्य...
*Author प्रणय प्रभात*
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
उदास शख्सियत सादा लिबास जैसी हूँ
Shweta Soni
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
अगर ना मिले सुकून कहीं तो ढूंढ लेना खुद मे,
Ranjeet kumar patre
अश्लील साहित्य
अश्लील साहित्य
Sanjay ' शून्य'
विवशता
विवशता
आशा शैली
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
चांद मुख पे धब्बे क्यों हैं आज तुम्हें बताऊंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
नैया फसी मैया है बीच भवर
नैया फसी मैया है बीच भवर
Basant Bhagawan Roy
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
भाषाओं पे लड़ना छोड़ो, भाषाओं से जुड़ना सीखो, अपनों से मुँह ना
DrLakshman Jha Parimal
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसद्दस मुज़ाफ़
sushil yadav
बरस  पाँच  सौ  तक रखी,
बरस पाँच सौ तक रखी,
Neelam Sharma
मीनाबाजार
मीनाबाजार
Suraj Mehra
इश्क- इबादत
इश्क- इबादत
Sandeep Pande
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
2570.पूर्णिका
2570.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
*अंतःकरण- ईश्वर की वाणी : एक चिंतन*
नवल किशोर सिंह
हम में,तुम में दूरी क्यू है
हम में,तुम में दूरी क्यू है
Keshav kishor Kumar
Loading...