Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

गज़ल

टीस मन से हमारे निकल जायेगी
रंग मसले का फिर ये बदल जायेगी

पेड़ पर जैसे पत्ते नये आतें हैं
होके पतझड़ बहारों में ढ़ल जायेगी

लोग कहतें हैं मुझमें सियासत नही
सोच उनकी ये सत्ता निगल जायेगी

दफ़्न होगी धुएँ में जो इंसानियत
उस धमाके से दुनिया दहल जायेगी

भूख से रोग से लड़ रहे थे महज़
ज़िन्दगी जंग में यूँ मसल जायेगी

Language: Hindi
1 Like · 208 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahendra Narayan
View all
You may also like:
सच सच कहना
सच सच कहना
Surinder blackpen
नारी का बदला स्वरूप
नारी का बदला स्वरूप
विजय कुमार अग्रवाल
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
*प्राण-प्रतिष्ठा सच पूछो तो, हुई राष्ट्र अभिमान की (गीत)*
Ravi Prakash
इश्क समंदर
इश्क समंदर
Neelam Sharma
■ न तोला भर ज़्यादा, न छँटाक भर कम।। 😊
■ न तोला भर ज़्यादा, न छँटाक भर कम।। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
तेरे मेरे बीच में
तेरे मेरे बीच में
नेताम आर सी
पलटूराम में भी राम है
पलटूराम में भी राम है
Sanjay ' शून्य'
सत्य आराधना
सत्य आराधना
Dr.Pratibha Prakash
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
मैं आखिर उदास क्यों होउँ
DrLakshman Jha Parimal
महफ़िल से जाम से
महफ़िल से जाम से
Satish Srijan
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
प्यार में आलिंगन ही आकर्षण होता हैं।
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-261💐
💐प्रेम कौतुक-261💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Whenever things got rough, instinct led me to head home,
Manisha Manjari
हिंसा
हिंसा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
2520.पूर्णिका
2520.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
कोई शाम आयेगी मेरे हिस्से
Amit Pandey
*दिल चाहता है*
*दिल चाहता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
मन रे क्यों तू तड़पे इतना, कोई जान ना पायो रे
Anand Kumar
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
चरागो पर मुस्कुराते चहरे
शेखर सिंह
Kagaj ki nav ban gyi mai
Kagaj ki nav ban gyi mai
Sakshi Tripathi
14. आवारा
14. आवारा
Rajeev Dutta
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
लक्ष्य
लक्ष्य
लक्ष्मी सिंह
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
*
*
Rashmi Sanjay
उस पार की आबोहवां में जरासी मोहब्बत भर दे
उस पार की आबोहवां में जरासी मोहब्बत भर दे
'अशांत' शेखर
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
धरती को‌ हम स्वर्ग बनायें
Chunnu Lal Gupta
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
ज़िंदगी की अहमियत
ज़िंदगी की अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
Loading...