Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2016 · 1 min read

गजल

आ गये जब पास मेरे वो हिचकिचाये भी नहीं
दर्द दास्तां को सुना तब वो लजाए भी नहीं

प्यार में पागल हुए जो हम न शरमाए कभी
भूल फिर हमसे हुई तब बडबडाए भी नहीं

रो रहा दिल यह कभी ठुकरा दिया तूने हमें
छोड़ तुझको दिल पे कोई और छाए भी नहीं

उस खुदा को आप में हमने हमेशा पा लिया
इसलिये तो सोच के हम आजमाए भी नहीं

छांव बन के मैं चलूँ , रग में बसू तेरी अभी
रात मेरे साथ रह क्यों जगमगाए भी नहीं

ताप दिल का दूर होता , बाँसुरी बन बजते तुम
मन सुरों की सरगमें बन , गुनगुनाए भी नहीं

गीत तेरे प्रेम के गाती रही हूँ आज भी
खत लिखे चाहत भरे मैनें जलाए भी नहीं

67 Likes · 324 Views
You may also like:
क्या ख़ूब हसीं तुझको क़ुदरत ने बनाया है
Irshad Aatif
रूप के जादूगरी
Shekhar Chandra Mitra
एक चुनाव हमने भी लड़ा था
Suryakant Chaturvedi
तूफानों में कश्तियों को।
Taj Mohammad
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मां
Sushil chauhan
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
गाछ (लोकमैथिली हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
💐💐किसी रोज़ जरूर मिलेंगे देखना💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सफ़र
Er.Navaneet R Shandily
साक्षात्कार:- कृषि क्षेत्र के हित के लिए "आईएएस" के तर्ज...
Deepak Kumar Tyagi
आया रक्षा बंधन
जगदीश लववंशी
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■ गीत / प्रेम की कहानी, आँसुओं की जुबानी
*Author प्रणय प्रभात*
प्रियतम
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
✍️मेरे भीतर का बच्चा
'अशांत' शेखर
*फूलमाला (मुक्तक)*
Ravi Prakash
इस दौर में
Dr fauzia Naseem shad
जब पिया घर नही आए
Ram Krishan Rastogi
हे माँ जानकी !
Saraswati Bajpai
🙏माता शैलपुत्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
// बेटी //
Surya Barman
घूँघट के पार
लक्ष्मी सिंह
तुम्हारे सिवा और दिल में नहीं
gurudeenverma198
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”
DrLakshman Jha Parimal
चोट मैं भी खायें हैं , तेरे इश्क में काफ़िर
Manoj Kumar
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
Loading...