Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

गजल सगीर

खुशी में भी हम अपने आंसुओं के साथ रहते हैं।
मुकम्मल हम नही हैं खा़मियों के साथ रहते है।

लगाकर आग बस्ती में, दिलासा बाद में देना।
यह किस्से क्यों हमेशा कुर्सियों के साथ रहते हैं।

कई कि़स्सा मुकम्मल भी अधूरा भी या पूरा भी।
मगर कुछ लोग तो हर सुर्खियों में साथ रहते हैं।

बसाई बस्तियां हमने बनाए आशियां हमने।
ना जाने किस लिए वह बिजलियों के साथ रहते हैं?

उन्हें मालूम क्या होगा कि भूखे पेट में बच्चे।
डरे सहमे,नगर की गुमटियों के साथ रहते हैं।

सगीर अच्छाइयां और खूबियां कोई नहीं दिखती।
ऐब सब ढूंढते हैं, ग़लतियों के साथ रहते हैं।

सगीर अहमद खैरा बाज़ार बहराइच

Language: Hindi
47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
3) “प्यार भरा ख़त”
3) “प्यार भरा ख़त”
Sapna Arora
चुभे  खार  सोना  गँवारा किया
चुभे खार सोना गँवारा किया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
दिलों में है शिकायत तो, शिकायत को कहो तौबा,
Vishal babu (vishu)
नेम प्रेम का कर ले बंधु
नेम प्रेम का कर ले बंधु
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"ये दृश्य बदल जाएगा.."
MSW Sunil SainiCENA
!!! होली आई है !!!
!!! होली आई है !!!
जगदीश लववंशी
"गरीब की बचत"
Dr. Kishan tandon kranti
*जमानत : आठ दोहे*
*जमानत : आठ दोहे*
Ravi Prakash
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
2662.*पूर्णिका*
2662.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
ईमानदारी की ज़मीन चांद है!
Dr MusafiR BaithA
अधिकांश लोग बोल कर
अधिकांश लोग बोल कर
*Author प्रणय प्रभात*
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
मां मेरे सिर पर झीना सा दुपट्टा दे दो ,
Manju sagar
" भींगता बस मैं रहा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जय श्री राम।
जय श्री राम।
Anil Mishra Prahari
उजियारी ऋतुओं में भरती
उजियारी ऋतुओं में भरती
Rashmi Sanjay
पापा जी
पापा जी
नाथ सोनांचली
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
उदासी
उदासी
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
💐अज्ञात के प्रति-14💐
💐अज्ञात के प्रति-14💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
जब मां भारत के सड़कों पर निकलता हूं और उस पर जो हमे भयानक गड
Rj Anand Prajapati
कहानी संग्रह-अनकही
कहानी संग्रह-अनकही
राकेश चौरसिया
Loading...