Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

गजल सगीर

2122 1122 1122 22/112

बिना काविश तो कोई भी खुशी आने से रही।
ख्वाहिश ए नफ़्स कभी आगे बढ़ाने से रही।
❤️
ख्वाहिशें लज्ज़त ए दीदार जवां है अब तक।
उस से मिलने की तमन्ना तो ज़माने से रही।
❤️
तुझ से मुमकिन हो भुलाना तो भुला देना तुम।
तेरी चाहत,मेरे दिल से कभी जाने से रही।
❤️
पाक दामन को रखा अपनी जु़लेखा से मगर।
हुस्न ए यूसुफ पे भी इल्जा़म लगाने से रही।
❤️
सीख ले कोई हुनर अपने गुजा़रे के लिए।
शायरी अपनी कभी रोज़ी चलाने से रही।
❤️
मौत आसान है अब हिज्र की सा’अत से “सगी़र”।
रिश्ता ए ज़ीस्त मुहब्बत के फ़साने से रही।
❤️❤️❤️❤️❤️
डॉ सगी़र अहमद सिद्दीकी़ खै़रा बाज़ार

Language: Hindi
2 Likes · 102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ पसंद अपनी-अपनी, शौक़ अपने-अपने। 😊😊
■ पसंद अपनी-अपनी, शौक़ अपने-अपने। 😊😊
*प्रणय प्रभात*
सिद्धत थी कि ,
सिद्धत थी कि ,
ज्योति
*ऐनक (बाल कविता)*
*ऐनक (बाल कविता)*
Ravi Prakash
यकीं के बाम पे ...
यकीं के बाम पे ...
sushil sarna
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
“ ......... क्यूँ सताते हो ?”
DrLakshman Jha Parimal
2931.*पूर्णिका*
2931.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बे फिकर होके मैं सो तो जाऊं
बे फिकर होके मैं सो तो जाऊं
Shashank Mishra
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
हसरतें बहुत हैं इस उदास शाम की
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
आगमन राम का सुनकर फिर से असुरों ने उत्पात किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
वो एक ही मुलाकात और साथ गुजारे कुछ लम्हें।
शिव प्रताप लोधी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"यादें"
Dr. Kishan tandon kranti
तिमिर है घनेरा
तिमिर है घनेरा
Satish Srijan
हिम्मत वो हुनर है , जो आपको कभी हारने नहीं देता।   नील रूहान
हिम्मत वो हुनर है , जो आपको कभी हारने नहीं देता। नील रूहान
Neelofar Khan
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
पढ़ने की रंगीन कला / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
* चांद के उस पार *
* चांद के उस पार *
surenderpal vaidya
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
बचपन मिलता दुबारा🙏
बचपन मिलता दुबारा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
मतलब हम औरों से मतलब, ज्यादा नहीं रखते हैं
gurudeenverma198
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
विधाता छंद (28 मात्रा ) मापनी युक्त मात्रिक
Subhash Singhai
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
इक इक करके सारे पर कुतर डाले
ruby kumari
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
.........,
.........,
शेखर सिंह
शिकारी संस्कृति के
शिकारी संस्कृति के
Sanjay ' शून्य'
1-	“जब सांझ ढले तुम आती हो “
1- “जब सांझ ढले तुम आती हो “
Dilip Kumar
Loading...