Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

गगन भवन में घन हैं छाए

गगन भवन में घन हैं छाए
शीतल पवन संग लहराए ,
तपती धरती के आँचल में
हरा भरा संदेशा लाए ।

तरुवर बाग बाग मुस्काए
क्यारी , पौध धान लहराए,
गौरैया भी बैठ नीड़ में
नन्हें खग पर नेह लुटाए ।

खगकुल स्वर संगीत सुनाए
मोर रंगीन पर फैलाए,
दादुर बोले बीच सरोवर
मेघ बरसने को हैं आए ।

डॉ रीता सिंह
चन्दौसी सम्भल

Language: Hindi
3 Likes · 1 Comment · 284 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
छन्द- वाचिक प्रमाणिका (मापनीयुक्त मात्रिक) वर्णिक मापनी – 12 12 12 12 अथवा – लगा लगा लगा लगा, पारंपरिक सूत्र – जभान राजभा लगा (अर्थात ज र ल गा)
Neelam Sharma
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
इंसानियत का कत्ल
इंसानियत का कत्ल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
जरूरत से ज्यादा मुहब्बत
shabina. Naaz
"बाल-मन"
Dr. Kishan tandon kranti
आज की बेटियां
आज की बेटियां
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
*हंगामा करने वाले, समझो बस शोर मचाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
The_dk_poetry
आ गए चुनाव
आ गए चुनाव
Sandeep Pande
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
आओ ऐसा एक भारत बनाएं
नेताम आर सी
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
प्यार है नही
प्यार है नही
SHAMA PARVEEN
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"जीवन की अंतिम यात्रा"
Pushpraj Anant
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
एक न एक दिन मर जाना है यह सब को पता है
Ranjeet kumar patre
मोहन कृष्ण मुरारी
मोहन कृष्ण मुरारी
Mamta Rani
बहू-बेटी
बहू-बेटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
और चौथा ???
और चौथा ???
SHAILESH MOHAN
यलग़ार
यलग़ार
Shekhar Chandra Mitra
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
मित्रता मे १० % प्रतिशत लेल नीलकंठ बनब आवश्यक ...सामंजस्यक
DrLakshman Jha Parimal
अब तो आई शरण तिहारी
अब तो आई शरण तिहारी
Dr. Upasana Pandey
😢शर्मनाक दोगलापन😢
😢शर्मनाक दोगलापन😢
*प्रणय प्रभात*
Home Sweet Home!
Home Sweet Home!
R. H. SRIDEVI
The emotional me and my love
The emotional me and my love
Sukoon
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
मेरे मालिक मेरी क़लम को इतनी क़ुव्वत दे
Dr Tabassum Jahan
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
साँवलें रंग में सादगी समेटे,
ओसमणी साहू 'ओश'
दिव्य-दोहे
दिव्य-दोहे
Ramswaroop Dinkar
Loading...