Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 1 min read

गए हो तुम जब से जाना

गए हो तुम जब से ओ जाना {2}
तब से, क़लम चलाने का
मेरा मन नहीं करता !

हाँ कभी चलती हैं मेरी क़लम {2}
बस तुम्हें लिखने में
किताबों पर चलाने का
अब मन नहीं करता!!!

✍️ D k

1 Like · 164 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अगर, आप सही है
अगर, आप सही है
Bhupendra Rawat
"प्रेमी हूँ मैं"
Dr. Kishan tandon kranti
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
दशरथ मांझी होती हैं चीटियाँ
Dr MusafiR BaithA
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
मोनू बंदर का बदला
मोनू बंदर का बदला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ईज्जत
ईज्जत
Rituraj shivem verma
मुझे प्यार हुआ था
मुझे प्यार हुआ था
Nishant Kumar Mishra
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
मन में क्यों भरा रहे घमंड
मन में क्यों भरा रहे घमंड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बुरा वक्त
बुरा वक्त
लक्ष्मी सिंह
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
काला न्याय
काला न्याय
Anil chobisa
मां का महत्त्व
मां का महत्त्व
Mangilal 713
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सज गई अयोध्या
सज गई अयोध्या
Kumud Srivastava
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
सांता क्लॉज आया गिफ्ट लेकर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक  अबोध बालक 😂😂😂
डॉ अरूण कुमार शास्त्री एक अबोध बालक 😂😂😂
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*
*"ममता"* पार्ट-3
Radhakishan R. Mundhra
मस्ती का त्योहार है,
मस्ती का त्योहार है,
sushil sarna
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
इस उजले तन को कितने घिस रगड़ के धोते हैं लोग ।
Lakhan Yadav
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
.
.
*Author प्रणय प्रभात*
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*पेट-भराऊ भोज, समोसा आलूवाला (कुंडलिया)*
*पेट-भराऊ भोज, समोसा आलूवाला (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी में रंग भरना आ गया
जिंदगी में रंग भरना आ गया
Surinder blackpen
Loading...