Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।

उसकी खामोशियाँ शब्दों से कहीं ज्यादा बोला करती हैं,
हृदय में छिपे रहस्यों को बस आँखों से खोला करती हैं।
भावशून्यता का लिहाफ़ ओढ़े, वो अंधेरों से विचरती है,
कहीं दिख ना जाए ज़ख्म उसके, इसलिए तो रौशनी से डरती है।
दर्द की पराकाष्ठा, उसकी साँसों को कुछ यूँ कुचलती है,
की अविश्वास की खाई में, वो मूर्छित होकर सोया करती है।
मदद के लिए बढ़े हाथों पे वो, संशय की दृष्टि रखती है,
और भय का दंश छिपाने को, सहसा प्रहार तक करती है।
अतीत की निर्मम स्मृतियाँ, पग को यूँ छलनी करती हैं,
की गंतव्यों पर पहुँच कर भी, यात्रा उसकी नहीं थमती है।

3 Likes · 2 Comments · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
धन्यवाद कोरोना
धन्यवाद कोरोना
Arti Bhadauria
भगतसिंह की जवानी
भगतसिंह की जवानी
Shekhar Chandra Mitra
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
The_dk_poetry
कभी किताब से गुज़रे
कभी किताब से गुज़रे
Ranjana Verma
दर्द का दरिया
दर्द का दरिया
Bodhisatva kastooriya
चाँद से बातचीत
चाँद से बातचीत
मनोज कर्ण
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/188.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आज का अनुरोध...
■ आज का अनुरोध...
*Author प्रणय प्रभात*
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
पकौड़े चाय ही बेचा करो अच्छा है जी।
सत्य कुमार प्रेमी
झुकता हूं.......
झुकता हूं.......
A🇨🇭maanush
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
gurudeenverma198
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
आ भी जाओ मेरी आँखों के रूबरू अब तुम
Vishal babu (vishu)
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
कृष्णकांत गुर्जर
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
लगी राम धुन हिया को
लगी राम धुन हिया को
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सगीर गजल
सगीर गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खोखला अहं
खोखला अहं
Madhavi Srivastava
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
मां तेरा कर्ज ये तेरा बेटा कैसे चुकाएगा।
Rj Anand Prajapati
पूरा कुनबा बैठता, खाते मिलकर धूप (कुंडलिया)
पूरा कुनबा बैठता, खाते मिलकर धूप (कुंडलिया)
Ravi Prakash
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
औरत अश्क की झीलों से हरी रहती है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"तेरा साथ है तो"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत मे तीन चीजें हमेशा शक के घेरे मे रहतीं है
भारत मे तीन चीजें हमेशा शक के घेरे मे रहतीं है
शेखर सिंह
💐प्रेम कौतुक-478💐
💐प्रेम कौतुक-478💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...