Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

गंगा मैया

( प्यारा सजा है दरबार ओ अम्बे मईया.. गीत की तर्ज पर )

गंगा गीत🙏🌹

अविरल बहे है तेरी धार
हो गंगे मईया…
अविरल…२
भागीरथ धरा पे तुझको लाये…
पितृ तरे जल निर्मल पाये…
शिव मष्तक से निकली ,धार
हो गंगे मईया ..

अविरल बहे है तेरी धार..

देवभूमि में गोमुख से निकली..
भगीरथी ,अलकनंदा ,मंदाकिनी बनीं थी…
ब्रम्हा का तू वरदान ओ गंगे मईया ..
अविरल बहे…2

धरती पर तू स्वर्ग से आई,
खुशहाली बन जगत में छाई
अमृत है,जननी तेरी धार,. ओ गंगेमईया …
अविरल बहे तेरी ..२

कुंभ जल बन तू कलश में साजे ..
जो न पाये ,हैं वो अभागे …
करती है भव से पार ,हो गंगे मईया…
अविरल बहे तेरी धार हो
गंगे मईया …२

ऐसे ही निर्मल मुझको रखियो,
नीर गंग से आचमन करिओ
रखियो न गंदगी, अपार ओ भक्तों प्यारे …
निर्मल बहेगी मेरी धार ओ भक्तों प्यारे …..
कुंभ में बहे अमृत धार ओ भक्तोंप्यारे…
धरती पे रहूंगी हर बार ओ भक्तों प्यारे…
अविरल बहे तेरी धार… २

डॉ कुमुद श्रीवास्तव वर्मा कुमुदिनी लखनऊ

मो.न० 9455684868
7007940450

1 Like · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
एक बंदर
एक बंदर
Harish Chandra Pande
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
खुद के व्यक्तिगत अस्तित्व को आर्थिक सामाजिक तौर पर मजबूत बना
पूर्वार्थ
जीवन के सफ़र में
जीवन के सफ़र में
Surinder blackpen
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
लग रहा है बिछा है सूरज... यूँ
Shweta Soni
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
यहां ज्यादा की जरूरत नहीं
Swami Ganganiya
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
■ देसी ग़ज़ल
■ देसी ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
गीत
गीत
Kanchan Khanna
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
رام کے نام کی سب کو یہ دہائی دینگے
अरशद रसूल बदायूंनी
लक्ष्य
लक्ष्य
Suraj Mehra
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
मै श्मशान घाट की अग्नि हूँ ,
Pooja Singh
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
दुश्मन कहां है?
दुश्मन कहां है?
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
अगर कभी मिलना मुझसे
अगर कभी मिलना मुझसे
Akash Agam
भरे हृदय में पीर
भरे हृदय में पीर
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रुक्मिणी संदेश
रुक्मिणी संदेश
Rekha Drolia
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
करो तारीफ़ खुलकर तुम लगे दम बात में जिसकी
आर.एस. 'प्रीतम'
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
कीमत दोनों की चुकानी पड़ती है चुपचाप सहने की भी
Rekha khichi
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
हिंदी मेरी राष्ट्र की भाषा जग में सबसे न्यारी है
SHAMA PARVEEN
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
विद्या-मन्दिर अब बाजार हो गया!
Bodhisatva kastooriya
बड़ी मछली सड़ी मछली
बड़ी मछली सड़ी मछली
Dr MusafiR BaithA
विनम्र भाव सभी के लिए मन में सदैव हो,पर घनिष्ठता सीमित व्यक्
विनम्र भाव सभी के लिए मन में सदैव हो,पर घनिष्ठता सीमित व्यक्
Paras Nath Jha
सियासत जाती और धर्म की अच्छी नहीं लेकिन,
सियासत जाती और धर्म की अच्छी नहीं लेकिन,
Manoj Mahato
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"" *हे अनंत रूप श्रीकृष्ण* ""
सुनीलानंद महंत
Loading...