Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2022 · 1 min read

ख्वाब हो गए वो दिन

जरुर पढ़े

=============

ख़्वाब हो गए हैं वो दिन

जब हम सब बेफ़िक्र हुआ करते थे

ख़्वाब हो गए हैं वो दिन

जब हम एक दूसरे के

दर्द को बांट लिया करते थे

दिल की बात कह कर

दिल का बोझ

हलका कर लिया करते थे

ख़्वाब हो गए वो दिन

जब किसी के पास

कुछ नहीं था….पर

अपनो को अपनों के

लिए वक्त:
था
उनका

ख्यालथा

उन पर एतबार था

उन से प्यार
था

ख़्वाब हो गए वो दिन

जब फेसबुक

WhatsApp instagram नहीं था

मगर दिलो का दिलो से

एहसास का रिश्ता उन को…..बांधे

रक्ता था..

ख़्वाब हो गए वो दिन

जब हिचकी आने पर

सोचा जाता था के किसी ने

शायद याद किया है

और सचमुच उसका नाम:

लेने पर रुक जाती थी हिचकिया

ख़्वाब हो गए वो दिन जब

बढ़ो की बात छोटे मान

लिया करते हैं।

जब छोटो के नखरे

और बढ़ो का बड़प्पन

का एक तालमैल हुआ करता था..इन सब के

बीच जिंदगी कितनी आसाना हुआ थी ……………

सोशल मीडिया ने ऐसा

सब के दिमाग को

बिगाड़ा के कोई किसी का ना रहा …..

हर रिश्ता कांच की तरह टूट गया…

और ये टूटे हुए कांच के: टुकड़े

दिलो में चुभते है

लहू बन के टपकते हैं……

सब जीते हैं

सब मरते हैं…..

ShabinaZ

Language: Hindi
246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
💐प्रेम कौतुक-346💐
💐प्रेम कौतुक-346💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख़्वाबों की दुनिया
ख़्वाबों की दुनिया
Dr fauzia Naseem shad
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी, सफलता
सारी गलतियां ख़ुद करके सीखोगे तो जिंदगी कम पड़ जाएगी, सफलता
dks.lhp
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
न किजिए कोशिश हममें, झांकने की बार-बार।
ओसमणी साहू 'ओश'
आँख मिचौली जिंदगी,
आँख मिचौली जिंदगी,
sushil sarna
2472.पूर्णिका
2472.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
गांधी से परिचर्चा
गांधी से परिचर्चा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
■ एक बहाना मिलने का...
■ एक बहाना मिलने का...
*Author प्रणय प्रभात*
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
कन्हैया आओ भादों में (भक्ति गीतिका)
Ravi Prakash
राम है आये!
राम है आये!
Bodhisatva kastooriya
आस
आस
Shyam Sundar Subramanian
पता ही नहीं चलता यार
पता ही नहीं चलता यार
पूर्वार्थ
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
मेरे हौसलों को देखेंगे तो गैरत ही करेंगे लोग
कवि दीपक बवेजा
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक्तक
मुक्तक
कृष्णकांत गुर्जर
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
रमेशराज की कहमुकरी संरचना में 10 ग़ज़लें
कवि रमेशराज
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
कुछ लड़कों का दिल, सच में टूट जाता हैं!
The_dk_poetry
वर्षा रानी⛈️
वर्षा रानी⛈️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
मुश्किल में जो देख किसी को, बनता उसकी ढाल।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
कवित्त छंद ( परशुराम जयंती )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
विदाई गीत
विदाई गीत
Dr Archana Gupta
ना कुछ जवाब देती हो,
ना कुछ जवाब देती हो,
Dr. Man Mohan Krishna
गाय
गाय
Vedha Singh
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
मतदान
मतदान
साहिल
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
मैं उसे अनायास याद आ जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
विधा:
विधा:"चन्द्रकान्ता वर्णवृत्त" मापनी:212-212-2 22-112-122
rekha mohan
मदमती
मदमती
Pratibha Pandey
Loading...