Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Nov 2023 · 1 min read

ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ

ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ, अभी भी है मुफ़लिस ही।
बना नहीं सका वह घर, अभी भी है तन से खालिस ही।।
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ——————।।

इंतजार है उसको रोटी का, सर्दी से बचने को कम्बल का।
वह भीग रहा है बारिश में, रब भी है उससे रुसवां ही।।
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ——————-।।

हथियार बनाकर उसको, सब लोग पाते हैं उससे सुख।
मिलती नहीं उसको तारीफ, होती है उसकी बुराई ही।।
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ——————।।

रातभर रहता है बेचैन, दिनभर सूरज में तपता है।
कब आयेगी उसकी सुबह,सदा बहाता है अश्क ही।।
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ——————।।

हक नहीं है उसका फिर भी, अपनी मेहनत के फल पर।
सुख उसका छीन लिया है, नसीब में है उसके दुःख ही।।
ख्वाब उसका पूरा नहीं हुआ——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ख़ून इंसानियत का
ख़ून इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
ایک سفر مجھ میں رواں ہے کب سے
Simmy Hasan
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"आज के दौर में"
Dr. Kishan tandon kranti
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
आप वही करें जिससे आपको प्रसन्नता मिलती है।
लक्ष्मी सिंह
पर्यावरण
पर्यावरण
Neeraj Mishra " नीर "
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
अरविंद पासवान की कविताओं में दलित अनुभूति// आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चंद्रयान 3
चंद्रयान 3
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
आशियाना तुम्हारा
आशियाना तुम्हारा
Srishty Bansal
#क़ता (मुक्तक)
#क़ता (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
वैर भाव  नहीं  रखिये कभी
वैर भाव नहीं रखिये कभी
Paras Nath Jha
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
!! बोलो कौन !!
!! बोलो कौन !!
Chunnu Lal Gupta
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
मेरे जज़्बात को चिराग कहने लगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मातु काल रात्रि
मातु काल रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
पंक्ति में व्यंग कहां से लाऊं ?
goutam shaw
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
रेत सी इंसान की जिंदगी हैं
Neeraj Agarwal
बेटी की शादी
बेटी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
कविता-हमने देखा है
कविता-हमने देखा है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...