Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2023 · 1 min read

ख्वाब आँखों में सजा कर,

ख्वाब आँखों में सजा कर,
हम देखते रहते हैं तुझे।।
-लक्ष्मी सिंह

3 Likes · 339 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
💐अज्ञात के प्रति-122💐
💐अज्ञात के प्रति-122💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
साहित्य सृजन .....
साहित्य सृजन .....
Awadhesh Kumar Singh
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
असर-ए-इश्क़ कुछ यूँ है सनम,
Amber Srivastava
21)”होली पर्व”
21)”होली पर्व”
Sapna Arora
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Harminder Kaur
टूटने का मर्म
टूटने का मर्म
Surinder blackpen
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
प्यासा के राम
प्यासा के राम
Vijay kumar Pandey
हो गरीबी
हो गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
* कुण्डलिया *
* कुण्डलिया *
surenderpal vaidya
#गणितीय प्रेम
#गणितीय प्रेम
हरवंश हृदय
गर्व करो कि
गर्व करो कि
*Author प्रणय प्रभात*
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
ফুলডুংরি পাহাড় ভ্রমণ
Arghyadeep Chakraborty
कविता
कविता
Rambali Mishra
मां होती है
मां होती है
Seema gupta,Alwar
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
फिर से ऐसी कोई भूल मैं
फिर से ऐसी कोई भूल मैं
gurudeenverma198
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
अनिल
अनिल "आदर्श "
Anil "Aadarsh"
"पते की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
*तैयारी होने लगी, आते देख चुनाव (कुंडलिया)*
*तैयारी होने लगी, आते देख चुनाव (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जल
जल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
घर बन रहा है
घर बन रहा है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
ये दुनिया है आपकी,
ये दुनिया है आपकी,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
Loading...