Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Apr 2024 · 1 min read

खो गए हैं ये धूप के साये

खो गए हैं ये धूप के साये
चाँद आ के फ़लक पे बैठा है!!!

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shweta Soni
View all
You may also like:
अन्धी दौड़
अन्धी दौड़
Shivkumar Bilagrami
संवेदना प्रकृति का आधार
संवेदना प्रकृति का आधार
Ritu Asooja
"फोटोग्राफी"
Dr. Kishan tandon kranti
युक्रेन और रूस ; संगीत
युक्रेन और रूस ; संगीत
कवि अनिल कुमार पँचोली
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/200. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"उतावलेपन" और "बावलेपन" में कोई ख़ास फ़र्क़ नहीं होता। दोनों "द
*प्रणय प्रभात*
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
कियो खंड काव्य लिखैत रहताह,
DrLakshman Jha Parimal
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
शब्द क्यूं गहे गए
शब्द क्यूं गहे गए
Shweta Soni
उनकी आंखो मे बात अलग है
उनकी आंखो मे बात अलग है
Vansh Agarwal
** मुक्तक **
** मुक्तक **
surenderpal vaidya
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
दमके क्षितिज पार,बन धूप पैबंद।
Neelam Sharma
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
अब तुझपे किसने किया है सितम
अब तुझपे किसने किया है सितम
gurudeenverma198
धीरे धीरे
धीरे धीरे
रवि शंकर साह
देखिए आप आप सा हूँ मैं
देखिए आप आप सा हूँ मैं
Anis Shah
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
आजकल बहुत से लोग ऐसे भी है
Dr.Rashmi Mishra
" मँगलमय नव-वर्ष-2024 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
कान्हा को समर्पित गीतिका
कान्हा को समर्पित गीतिका "मोर पखा सर पर सजे"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
बना देता है बिगड़ी सब, इशारा उसका काफी है (मुक्तक)
बना देता है बिगड़ी सब, इशारा उसका काफी है (मुक्तक)
Ravi Prakash
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
मौत के डर से सहमी-सहमी
मौत के डर से सहमी-सहमी
VINOD CHAUHAN
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
क़लम, आंसू, और मेरी रुह
The_dk_poetry
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
Loading...