Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 1 min read

खोया है हरेक इंसान

सपनों की दुनिया में ही
खोया है हरेक इंसान
सपनों के पीछे भाग के
वो पा रहा नए मुकाम
सपने सच होते तब जब
वो करे शिद्दत से प्रयास
अपनी मंजिल पर पहुंच के
बढ़ता मानव का उल्लास
कुछ सपनों के बिखरने
से मानस से जाते हैं टूट
अवसाद औ निराशा चट
कर जाती है उनका वजूद
सपनों की प्रकृति औ फल
पर कीजिए हृदय से विचार
फिर उनको मूर्त रूप देने को
कीजिए जरूरी उद्यम बारंबार

Language: Hindi
115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
सांसों का थम जाना ही मौत नहीं होता है
Ranjeet kumar patre
दुख
दुख
Rekha Drolia
दोपहर जल रही है सड़कों पर
दोपहर जल रही है सड़कों पर
Shweta Soni
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
“अखनो मिथिला कानि रहल अछि ”
DrLakshman Jha Parimal
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
आपसे होगा नहीं , मुझसे छोड़ा नहीं जाएगा
Keshav kishor Kumar
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
शेखर सिंह
आप और जीवन के सच
आप और जीवन के सच
Neeraj Agarwal
पहले कविता जीती है
पहले कविता जीती है
Niki pushkar
कुछ परिंदें।
कुछ परिंदें।
Taj Mohammad
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
प्रतिभाशाली बाल कवयित्री *सुकृति अग्रवाल* को ध्यान लगाते हुए
प्रतिभाशाली बाल कवयित्री *सुकृति अग्रवाल* को ध्यान लगाते हुए
Ravi Prakash
अनकहा दर्द (कविता)
अनकहा दर्द (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
कलयुगी की रिश्ते है साहब
कलयुगी की रिश्ते है साहब
Harminder Kaur
2495.पूर्णिका
2495.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रुलाई
रुलाई
Bodhisatva kastooriya
■ एक विचार-
■ एक विचार-
*प्रणय प्रभात*
, गुज़रा इक ज़माना
, गुज़रा इक ज़माना
Surinder blackpen
समय
समय
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
(23) कुछ नीति वचन
(23) कुछ नीति वचन
Kishore Nigam
तुम्हे वक्त बदलना है,
तुम्हे वक्त बदलना है,
Neelam
While proving me wrong, keep one thing in mind.
While proving me wrong, keep one thing in mind.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
मैं जब करीब रहता हूँ किसी के,
Dr. Man Mohan Krishna
अच्छा ख़ासा तआरुफ़ है, उनका मेरा,
अच्छा ख़ासा तआरुफ़ है, उनका मेरा,
Shreedhar
पनघट
पनघट
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
अब तुझपे किसने किया है सितम
अब तुझपे किसने किया है सितम
gurudeenverma198
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
खुशी पाने का जरिया दौलत हो नहीं सकता
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...