Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Oct 2022 · 1 min read

खोपक पेरवा (लोकमैथिली_कविता)

●दिनेश यादव~
अंगनामे
निमक गाछ पर भोरेभोर
चिडै-चुनमुनी
चुनचुन करैत छल
कहियो अइ डाइर त
कहियो ओइ डाइर
फूद्फुद् सेहो करैत छल ।
डेढियासँ सटल
काठक खोपमे
बन्द फाटक छल
ओइमे कच्छरैत पेरवासब
घुटूर घूॅ करैत छल
जोर-जोर सॅ डेन अपन
हिलबैत छल,
मालिकक ध्यान तनबाक लेल
टिनक चारीमे डेन
अपन बजारैत छल
आबाज सुनैवाला कियो नै छल।।
मलिकवाक कनकिरबा
उठिते खोपक फाटक खुजल
पेरवा फुर्रसिन उडल
ओकर उडानक कनिके कालक बाद
ग्राहक
आङनमे पहुचल
चारि जोडि पेरवा माँगलक
मलिकवाके टका थमहेलक
निर्दोष जोडिके पकैड
बिदा भेल,
घर पहुचते
हलाली कैयलक ।।
निम पर चिडैय
चुनमुन सदखनि करैत छल
मुदा खोपक पेरवा
कहियो फाटकमे बन्द त
कहियो किनबेसाहक
सामग्री बनल
जन्मेसँ आनक अधिन
पेरवासब
आब त खोप सेहो
घनघोर
बदलै लागल
मुद्दा ओकर स्वतन्त्रता
अखनो दोसरेके
हाथक डोर बनल
तईं खोपमे अखनो
फडफडाय पेरवा !

Language: Maithili
1 Like · 198 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
View all
You may also like:
इंसान होकर जो
इंसान होकर जो
Dr fauzia Naseem shad
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
क़रार आये इन आँखों को तिरा दर्शन ज़रूरी है
Sarfaraz Ahmed Aasee
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
Ignorance is the best way to hurt someone .
Ignorance is the best way to hurt someone .
Sakshi Tripathi
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
हम भारतीयों की बात ही निराली है ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
कलम की वेदना (गीत)
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
मातृभूमि पर तू अपना सर्वस्व वार दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
अब मुझे महफिलों की,जरूरत नहीं रही
पूर्वार्थ
बीच-बीच में
बीच-बीच में
*Author प्रणय प्रभात*
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
टाईम पास .....लघुकथा
टाईम पास .....लघुकथा
sushil sarna
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
कौन कहता है वो ठुकरा के गया
Manoj Mahato
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
कुदरत से मिलन , अद्धभुत मिलन।
Kuldeep mishra (KD)
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
हम किसे के हिज्र में खुदकुशी कर ले
himanshu mittra
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
*खुशी के पल असाधारण, दोबारा फिर नहीं आते (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आता जब समय चुनाव का
आता जब समय चुनाव का
Gouri tiwari
*मेरा विश्वास*
*मेरा विश्वास*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
शुभ रात्रि मित्रों.. ग़ज़ल के तीन शेर
आर.एस. 'प्रीतम'
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
!! पलकें भीगो रहा हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
बस यूं ही
बस यूं ही
MSW Sunil SainiCENA
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
मेरी मोहब्बत पाक मोहब्बत
VINOD CHAUHAN
2458.पूर्णिका
2458.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"कौआ"
Dr. Kishan tandon kranti
*कुकर्मी पुजारी*
*कुकर्मी पुजारी*
Dushyant Kumar
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
कहते हैं,
कहते हैं,
Dhriti Mishra
Loading...