Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

खोज सत्य की जारी है

कर्मों का फल मिलता सबको, हर दीवाली होली में।
कुछ को सुख मिलता बोली में, कुछ को मिले ठिठोली में।।।
कुछ घूमें नंगे अधनंगे, कुछ पर आफ़त आती है,
कुछ को मौज मिला करती है, प्राणप्रिया की चोली में।।

कोई दुर्घटना में मरता, कोई बस धक्के खाता ।
टिकट किसी का कट जाता है, और किसी को मिल जाता ।।
कुछ की मांग उजड़ जाती है, कुछ को मिल जाते प्रीतम,
कुछ के गीत सुपरहिट होते, कोई पुरस्कार पाता।।

अपना अपना भाग्य सभी का, सबके सुख-दुख हैं न्यारे।
कुछ से दुनिया नफरत करती, कुछ हैं आंखों के तारे।।
अकर्मण्य कुछ कर्म न करते, अहोरात्रि कुछ कर्मनिरत,
तुलसी सूर कबीर निराला, सरस्वती के हरकारे।।

हर हरकारा यही बताता, भाग्य कर्म से बनता है।
कर्मवीर का युद्ध हमेशा, भाग्यबली से ठनता है।।
त्याग फलाशा कर्म करें हम, गीता का सन्देश यही,
हर चुनाव में ठग ली जाती, भोली-भाली जनता है।।

भटक रही सारी मानवता, खोज सत्य की जारी है।
सीख सत्य सम्भाषण की ही, देता हर अवतारी है ।।
पर असत्य किसकी रचना है, कोई नहीं बता पाता,
जगदात्मा अर्द्धनारीश्वर, वह ही दुनिया सारी है।।

महेश चन्द्र त्रिपाठी

2 Likes · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महेश चन्द्र त्रिपाठी
View all
You may also like:
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
हम तो मतदान करेंगे...!
हम तो मतदान करेंगे...!
मनोज कर्ण
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
डा. तेज सिंह : हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ का स्मरण / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ब्राह्मण
ब्राह्मण
Sanjay ' शून्य'
अच्छे बच्चे
अच्छे बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
जीतना अच्छा है,पर अपनों से हारने में ही मज़ा है।
अनिल कुमार निश्छल
ईश्वर से ...
ईश्वर से ...
Sangeeta Beniwal
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
#अमावसी_ग्रहण
#अमावसी_ग्रहण
*प्रणय प्रभात*
अभी गनीमत है
अभी गनीमत है
शेखर सिंह
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
*प्रेमचंद (पॉंच दोहे)*
Ravi Prakash
3422⚘ *पूर्णिका* ⚘
3422⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
*हिंदी दिवस*
*हिंदी दिवस*
Atul Mishra
एक मुट्ठी राख
एक मुट्ठी राख
Shekhar Chandra Mitra
पढ़ने को आतुर है,
पढ़ने को आतुर है,
Mahender Singh
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
"मैं आज़ाद हो गया"
Lohit Tamta
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा  !
कोई पढे या ना पढे मैं तो लिखता जाऊँगा !
DrLakshman Jha Parimal
3. कुपमंडक
3. कुपमंडक
Rajeev Dutta
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...