Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

खोखला अहं

पता है तुम्हें
जब लोगों की नजरें भेदती हैं मुझे
मुझे कुछ अजीब नहीं लगता अब
क्योंकि
मैं जानती हूं ,ये लोग
गंदगी की मिट्टी में
रेंगते हुए लिजलिजे से
वो दोमुंहे जंतु हैं,
जिनके रीढ़ नहीं होती
क्या कहा था तुमने ?
तुम्हारी सोच इतनी घृणित नहीं
मगर अफसोस,
तुम्हारा खोखला दंभ और पुरूष जनित अंहकार
वही, बिल्कुल वही

Language: Hindi
152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
साँवरिया
साँवरिया
Pratibha Pandey
*खुद को  खुदा  समझते लोग हैँ*
*खुद को खुदा समझते लोग हैँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Dr. Arun Kumar Shastri
Dr. Arun Kumar Shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
शिव स्तुति
शिव स्तुति
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
🙅चुनावी साल🙅
🙅चुनावी साल🙅
*प्रणय प्रभात*
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
सहकारी युग ,हिंदी साप्ताहिक का 15 वाँ वर्ष { 1973 - 74 }*
Ravi Prakash
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
अब युद्ध भी मेरा, विजय भी मेरी, निर्बलताओं को जयघोष सुनाना था।
Manisha Manjari
फ़ासले
फ़ासले
Dr fauzia Naseem shad
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सिलसिला"
Dr. Kishan tandon kranti
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
Plastic Plastic Everywhere.....
Plastic Plastic Everywhere.....
R. H. SRIDEVI
जब मुझसे मिलने आना तुम
जब मुझसे मिलने आना तुम
Shweta Soni
प्यार गर सच्चा हो तो,
प्यार गर सच्चा हो तो,
Sunil Maheshwari
यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।
यहां कश्मीर है केदार है गंगा की माया है।
सत्य कुमार प्रेमी
2436.पूर्णिका
2436.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोस्ती का तराना
दोस्ती का तराना
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
“अकेला”
“अकेला”
DrLakshman Jha Parimal
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
लोग ऐसे दिखावा करते हैं
ruby kumari
हँस रहे थे कल तलक जो...
हँस रहे थे कल तलक जो...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जुबां
जुबां
Sanjay ' शून्य'
चमचा चरित्र.....
चमचा चरित्र.....
Awadhesh Kumar Singh
सत्य मिलता कहाँ है?
सत्य मिलता कहाँ है?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ध्यान एकत्र
ध्यान एकत्र
शेखर सिंह
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
समझदारी का न करे  ,
समझदारी का न करे ,
Pakhi Jain
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
तुम भी 2000 के नोट की तरह निकले,
Vishal babu (vishu)
Loading...