Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

खैरात में मिली

खैरात में मिली
ख़ुशी हमें पसंद नहीं
हम तो गम में भी
नवाबों की तरहे जीते है!!

हिमांशु Kulshrestha

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
मिष्ठी का प्यारा आम
मिष्ठी का प्यारा आम
Manu Vashistha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
शिक्षक
शिक्षक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"ममतामयी मिनीमाता"
Dr. Kishan tandon kranti
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
चौथ मुबारक हो तुम्हें शुभ करवा के साथ।
सत्य कुमार प्रेमी
-- फिर हो गयी हत्या --
-- फिर हो गयी हत्या --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
फल और मेवे
फल और मेवे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
*** तुम से घर गुलज़ार हुआ ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
3266.*पूर्णिका*
3266.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
डोसा सब को भा रहा , चटनी-साँभर खूब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
Dr MusafiR BaithA
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उम्मीद
उम्मीद
शेखर सिंह
वंदेमातरम
वंदेमातरम
Bodhisatva kastooriya
किसका  हम शुक्रिया करें,
किसका हम शुक्रिया करें,
sushil sarna
हीरा जनम गंवाएगा
हीरा जनम गंवाएगा
Shekhar Chandra Mitra
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
कल्पित एक भोर पे आस टिकी थी, जिसकी ओस में तरुण कोपल जीवंत हुए।
Manisha Manjari
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
सबके राम
सबके राम
Sandeep Pande
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
लोग अब हमसे ख़फा रहते हैं
Shweta Soni
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
किसी ने कहा- आरे वहां क्या बात है! लड़की हो तो ऐसी, दिल जीत
जय लगन कुमार हैप्पी
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
आओ कभी स्वप्न में मेरे ,मां मैं दर्शन कर लूं तेरे।।
SATPAL CHAUHAN
*औपचारिकता*
*औपचारिकता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...