Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2016 · 1 min read

“खूबसूरत जिन्दगी “

ख्वाहिशों के पन्ने ना पलटिये ,
सिलवटें पड़ जाती हैं ,
और उम्र गुज़र जाती है ,
मगर पूरी नहीं होती हैं ,
यादों को भी समेट दीजिये,
इन्हीं पन्नों के बीच,
परत -दर -परत,
मिलती है बडी मुश्किल से,
छोटी सी ये खूबसूरत ज़िंदगी ,
हौसलों के पंख पसारिये,
अपने आज पे न्योंछावर,
अपने कल को कर दीजिये,
अपने आने वाले कल को
अपनी आगोश में भर लीजिये.
…निधि…

Language: Hindi
Tag: कविता
4 Comments · 333 Views
You may also like:
कोई रोक नही सकता
Anamika Singh
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
” हृदय से ना जुड़ सके तो मित्र कैसे रह...
DrLakshman Jha Parimal
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
मुनासिब है दरमियां
Dr fauzia Naseem shad
दुआओं की नौका...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
पितृपक्ष_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
विश्व वरिष्ठ नागरिक दिवस
Ram Krishan Rastogi
वो चाहता है उसे मैं भी लाजवाब कहूँ
Anis Shah
कैसे मुझे गवारा हो
Seema 'Tu hai na'
बंधन बाधा हर हरो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
सांसें थम सी गई है, जब से तु म हो...
Chaurasia Kundan
जीवन साथी
जगदीश लववंशी
पत्थर दिखता है . (ग़ज़ल)
Mahendra Narayan
वो नयनों के दीपक
VINOD KUMAR CHAUHAN
उड़ता बॉलीवुड
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंथरा के ऋणी....श्री राम
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अपनी ताकत को कलम से नवाजा जाए
कवि दीपक बवेजा
not a cup of my tea
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️हर बूँद की दास्ताँ✍️
'अशांत' शेखर
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
कुछ चेहरे खुशियों में भी नम होते हैं।
Taj Mohammad
'सनातन ज्ञान'
Godambari Negi
हाँथो में लेकर हाँथ
Mamta Rani
करके शठ शठता चले
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
चिरकाल तक लहराता अपना तिरंगा रहे
Suryakant Angara Kavi official
*याद तुम्हारी आती है ( गीत )*
Ravi Prakash
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
Loading...