Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Aug 2016 · 1 min read

“खूबसूरत जिन्दगी “

ख्वाहिशों के पन्ने ना पलटिये ,
सिलवटें पड़ जाती हैं ,
और उम्र गुज़र जाती है ,
मगर पूरी नहीं होती हैं ,
यादों को भी समेट दीजिये,
इन्हीं पन्नों के बीच,
परत -दर -परत,
मिलती है बडी मुश्किल से,
छोटी सी ये खूबसूरत ज़िंदगी ,
हौसलों के पंख पसारिये,
अपने आज पे न्योंछावर,
अपने कल को कर दीजिये,
अपने आने वाले कल को
अपनी आगोश में भर लीजिये.
…निधि…

Language: Hindi
4 Comments · 442 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
प्रणय निवेदन
प्रणय निवेदन
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
"अन्दर ही अन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
सभी फैसले अपने नहीं होते,
सभी फैसले अपने नहीं होते,
शेखर सिंह
नवदुर्गा का महागौरी स्वरूप
नवदुर्गा का महागौरी स्वरूप
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
*अमृत-बेला आई है (देशभक्ति गीत)*
Ravi Prakash
मेहनत और अभ्यास
मेहनत और अभ्यास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
होरी खेलन आयेनहीं नन्दलाल
Bodhisatva kastooriya
मन का डर
मन का डर
Aman Sinha
चन्दा लिए हुए नहीं,
चन्दा लिए हुए नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
*जातिवाद का खण्डन*
*जातिवाद का खण्डन*
Dushyant Kumar
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
गमों की चादर ओढ़ कर सो रहे थे तन्हां
Kumar lalit
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
हमारी योग्यता पर सवाल क्यो १
भरत कुमार सोलंकी
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
ईश्वरीय समन्वय का अलौकिक नमूना है जीव शरीर, जो क्षिति, जल, प
Sanjay ' शून्य'
2559.पूर्णिका
2559.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
ख्वाब हो गए हैं वो दिन
shabina. Naaz
माँ-बाप
माँ-बाप
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
■ नाम बड़ा, दर्शन क्यों छोटा...?
*Author प्रणय प्रभात*
मनुष्य प्रवृत्ति
मनुष्य प्रवृत्ति
विजय कुमार अग्रवाल
तू ठहर चांद हम आते हैं
तू ठहर चांद हम आते हैं
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
कृष्ण की फितरत राधा की विरह
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Loading...