Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

खूबसूरती

जिंदगी इतनी खूबसूरत हो सकती है ,
किसे पता था।
मैंने प्रेम की जोत जलाई तो सारा जहाँ रोशन हो गया।
जब नफ़रत के बीज थे ,तब कांटे -ही कांटे थे।
बाह्य ख़ूबसूरती ही ख़ूबसूरती नज़र आती थी ,
बाह्य ख़ूबसूरती को ख़ूबसूरती समझ कई बार धोखे खाये।
अब मैं आंतरिक यात्रा पर निकली हूँ ,
अंदर कभी झाँक -कर नहीं देखा था ,
ख़ूबसूरती का आइना मन है ,ज्ञात नहीं था ,
ख़ूबसूरती शुभ विचारोँ की निर्मलता और
सत्यता का शृंगार
विचारों की झाँकी चेहरे पर आ जाती है
चेहरे केआइने में झलक दिखला जाती है ,
मन के आइने में झलक दिखला जाती है
अब आन्तरिक सुन्दरता पर ध्यान केन्द्रित किया है ,
प्रेम त्याग ,दया क्षमा ,आदि बन मन के हार श्रृंगार
बड़ा रहे हैं ,चेहरे का नूर ,
विकारों से दूर , मज़हब मेरा परस्पर प्रेम से पूर्ण
अपना लिये हैं अपनत्व के सारे गुण ,
अपनत्व के बीज ,परस्पर प्रेम की खाद ,
ख़ूबसूरती का राज़ , ख़ूबसूरती का राज़।

1 Like · 24 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ritu Asooja
View all
You may also like:
ये ज़िंदगी
ये ज़िंदगी
Shyam Sundar Subramanian
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
प्रभु की लीला प्रभु जाने, या जाने करतार l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
परिवर्तन ही वर्तमान चिरंतन
परिवर्तन ही वर्तमान चिरंतन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
बेकसूर तुम हो
बेकसूर तुम हो
SUNIL kumar
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
साक्षात्कार एक स्वास्थ्य मंत्री से [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
रिमझिम बरसो
रिमझिम बरसो
surenderpal vaidya
दान की महिमा
दान की महिमा
Dr. Mulla Adam Ali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
साईं बाबा
साईं बाबा
Sidhartha Mishra
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
Shweta Soni
ज़िंदगी में अपना पराया
ज़िंदगी में अपना पराया
नेताम आर सी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुपुत्र
कुपुत्र
Sanjay ' शून्य'
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
कुछ औरतें खा जाती हैं, दूसरी औरतों के अस्तित्व । उनके सपने,
पूर्वार्थ
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
!! निरीह !!
!! निरीह !!
Chunnu Lal Gupta
मोहब्बत ना-समझ होती है समझाना ज़रूरी है
मोहब्बत ना-समझ होती है समझाना ज़रूरी है
Rituraj shivem verma
पिता
पिता
Neeraj Agarwal
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरी कहानी मेरी जुबानी
मेरी कहानी मेरी जुबानी
Vandna Thakur
🙅कर्नाटक डायरी🙅
🙅कर्नाटक डायरी🙅
*प्रणय प्रभात*
*पीड़ा*
*पीड़ा*
Dr. Priya Gupta
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शुभ रात्रि
शुभ रात्रि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...