Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

खूबसूरती

खूबसूरती है पसंद, तो खूबसूरती को समझने की रखें समझ। खूबसूरत अग्नि भी है, मगर छूने से कर देगी जलन।
चेहरे पर ना मर आत्मा से प्रेम कर, खूबसूरती का जब आएगा फर्क तुझे समझ।
दिखने वाली खूबसूरती, जीवन पर डालती हैं बुरा असर।
पूरी तहकीकात से, खूबसूरती को समझ।

1 Like · 156 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
नहीं कोई लगना दिल मुहब्बत की पुजारिन से,
शायर देव मेहरानियां
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
*अर्थ करवाचौथ का (गीतिका)*
Ravi Prakash
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
जलाना आग में ना ही मुझे मिट्टी में दफनाना
VINOD CHAUHAN
ముందుకు సాగిపో..
ముందుకు సాగిపో..
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
सच्चे हमराह और हमसफ़र दोनों मिलकर ही ज़िंदगी के पहियों को सह
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
मां की जीवटता ही प्रेरित करती है, देश की सेवा के लिए। जिनकी
Sanjay ' शून्य'
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
नारी....एक सच
नारी....एक सच
Neeraj Agarwal
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
जिम्मेदारी कौन तय करेगा
Mahender Singh
"तुम्हें याद करना"
Dr. Kishan tandon kranti
याद रखना
याद रखना
Dr fauzia Naseem shad
जहर    ना   इतना  घोलिए
जहर ना इतना घोलिए
Paras Nath Jha
तुम बदल जाओगी।
तुम बदल जाओगी।
Rj Anand Prajapati
सत्य मिलता कहाँ है?
सत्य मिलता कहाँ है?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
"दस ढीठों ने ताक़त दे दी,
*प्रणय प्रभात*
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
कभी बेवजह तुझे कभी बेवजह मुझे
Basant Bhagawan Roy
हमारा विद्यालय
हमारा विद्यालय
आर.एस. 'प्रीतम'
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
विकट संयोग
विकट संयोग
Dr.Priya Soni Khare
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
जिनकी खातिर ठगा और को,
जिनकी खातिर ठगा और को,
डॉ.सीमा अग्रवाल
2385.पूर्णिका
2385.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
लेकिन, प्यार जहां में पा लिया मैंने
gurudeenverma198
कालः  परिवर्तनीय:
कालः परिवर्तनीय:
Bhupendra Rawat
जो ना कहता है
जो ना कहता है
Otteri Selvakumar
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
कोयल (बाल कविता)
कोयल (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
मैं जीना सकूंगा कभी उनके बिन
कृष्णकांत गुर्जर
Loading...