Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Oct 2023 · 1 min read

खून पसीने में हो कर तर बैठ गया

खून पसीने में हो कर तर बैठ गया
इंसाँ है मज़दूर भी थककर बैठ गया

गुस्से में वो नाक फुलाकर बैठ गया
मेरा उस के बाद मुक़द्दर बैठ गया

राज़ की बातें ग़ैरों के मुंह सुन कर
लम्हा भर को मैं चकराकर बैठ गया

जितने मुंह उससे भी ज़ियादा बातें थी
वो थोड़ा क्या मेरे बराबर बैठ गया

अपना बोझ भरम ऐसे रक्खा हमने
चुप होकर आँखों में सागर बैठ गया

रसमन हमने उसको इज़्ज़त बख्शी थी
और वह सीधा सर के ऊपर बैठ गया

मेरे दिल से तुमको कौन निकालेगा
अब दरया में जैसे पत्थर बैठ गया

आज मिरे घर क्या तुम आने वाले हो
सुब्ह सवेरे कागा छत पर बैठ गया

ऐसे मंज़िल पाने के हालात बने
बीच सफर में अरशद रहबर बैठ गया

1 Like · 158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कस्तूरी इत्र
कस्तूरी इत्र
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
पिघलता चाँद ( 8 of 25 )
Kshma Urmila
कामयाबी का नशा
कामयाबी का नशा
SHAMA PARVEEN
No battles
No battles
Dhriti Mishra
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
वायु प्रदूषण रहित बनाओ।
Buddha Prakash
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
"जरा देख"
Dr. Kishan tandon kranti
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3303.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
Ujjwal kumar
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
नमन तुम्हें नर-श्रेष्ठ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वह दिन जरूर आयेगा
वह दिन जरूर आयेगा
Pratibha Pandey
■ तजुर्बे की बात।
■ तजुर्बे की बात।
*प्रणय प्रभात*
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
ये न सोच के मुझे बस जरा -जरा पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
*पशु- पक्षियों की आवाजें*
Dushyant Kumar
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
छोटी- छोटी प्रस्तुतियों को भी लोग पढ़ते नहीं हैं, फिर फेसबूक
DrLakshman Jha Parimal
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
कोई ना होता है अपना माँ के सिवा
Basant Bhagawan Roy
ना फूल मेरी क़ब्र पे
ना फूल मेरी क़ब्र पे
Shweta Soni
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
//सुविचार//
//सुविचार//
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
एक गुलाब हो
एक गुलाब हो
हिमांशु Kulshrestha
Wakt ke pahredar
Wakt ke pahredar
Sakshi Tripathi
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
* मन बसेगा नहीं *
* मन बसेगा नहीं *
surenderpal vaidya
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
जब कोई हाथ और साथ दोनों छोड़ देता है
Ranjeet kumar patre
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
ग़ज़ल _ मिल गयी क्यूँ इस क़दर तनहाईयाँ ।
Neelofar Khan
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
आप हमें याद आ गएँ नई ग़ज़ल लेखक विनीत सिंह शायर
Vinit kumar
जो संस्कार अपने क़ानून तोड़ देते है,
जो संस्कार अपने क़ानून तोड़ देते है,
शेखर सिंह
Loading...