Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Feb 2023 · 1 min read

खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,

खुशी के माहौल में दिल उदास क्यों है,
समुंदर को भी ये अजीब प्यास क्यों है !

जिसके लौट आने की कोई उम्मीद नहीं
दिल को फिर उसी की तलाश क्यों है !!

कवि दीपक सरल

1 Like · 328 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
मन की चंचलता बहुत बड़ी है
पूर्वार्थ
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
अहं का अंकुर न फूटे,बनो चित् मय प्राण धन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
मैं उनके सँग में यदि रहता नहीं
gurudeenverma198
Swami Vivekanand
Swami Vivekanand
Poonam Sharma
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
2) भीड़
2) भीड़
पूनम झा 'प्रथमा'
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
"निरक्षर-भारती"
Prabhudayal Raniwal
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
जिस पर हँसी के फूल,कभी बिछ जाते थे
Shweta Soni
तल्खियां
तल्खियां
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
मुझे
मुझे "कुंठित" होने से
*Author प्रणय प्रभात*
माँ
माँ
Dr Archana Gupta
"वाह नारी तेरी जात"
Dr. Kishan tandon kranti
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
*सर्दी की धूप*
*सर्दी की धूप*
Dr. Priya Gupta
फ़ितरत
फ़ितरत
Priti chaudhary
3081.*पूर्णिका*
3081.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
निरीह गौरया
निरीह गौरया
Dr.Pratibha Prakash
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
*निर्धनता सबसे बड़ा, जग में है अभिशाप( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
रात निकली चांदनी संग,
रात निकली चांदनी संग,
manjula chauhan
एक अर्सा हुआ है
एक अर्सा हुआ है
हिमांशु Kulshrestha
मंजिल की तलाश में
मंजिल की तलाश में
Praveen Sain
Loading...