Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

खुशियॉ लौट आयी हैं मिली जब चॉद-सी “जैनी”

चमकता चाँद सा चेहरा मेरे दिल में उतर आया !
हकीकत है या फिर सपनो में उससे बात कर आया !!
मिले दो पल मुझे भी इश्क़ को महसूस करने के ,
भ्रमर के रुप में जुगनू कुमुदिनी पर नजर आया !!

खुशियॉ लौट आयी हैं मिली जब चॉद-सी “जैनी” !
सुखद लगने लगा हर पल नहीं लगती है बेचैनी !!
लिए एहसास में जिसको विरह के गीत गाये थे,
वही सुंदर सलोनी खूबसूरत-सी है मृगनयनी !!

मुझे वो मिल गई कविता कहानी गीत गजलों में !
नजर आता है चेहरा फूल क्यारी और गमलों में !!
उसी के नाम का मै आजकल बस गीत गाता हूँ ,
रहेगी रानी बनकर वो सदा जुगनू के महलों में !!

Language: Hindi
225 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
तेरी मीठी बातों का कायल अकेला मैं ही नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
#ग़ज़ल :--
#ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
I know that you are tired of being in this phase of life.I k
I know that you are tired of being in this phase of life.I k
पूर्वार्थ
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
काला धन काला करे,
काला धन काला करे,
sushil sarna
17== 🌸धोखा 🌸
17== 🌸धोखा 🌸
Mahima shukla
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बलात्कार
बलात्कार
rkchaudhary2012
माँ वाणी की वन्दना
माँ वाणी की वन्दना
Prakash Chandra
प्यारा सा स्कूल
प्यारा सा स्कूल
Santosh kumar Miri
भूख-प्यास कहती मुझे,
भूख-प्यास कहती मुझे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*नया साल*
*नया साल*
Dushyant Kumar
उसका चेहरा उदास था
उसका चेहरा उदास था
Surinder blackpen
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
सम्बन्ध वो नहीं जो रिक्तता को भरते हैं, सम्बन्ध वो जो शून्यत
ललकार भारद्वाज
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
शोकहर छंद विधान (शुभांगी)
Subhash Singhai
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
रहने भी दो यह हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
मैं मजदूर हूं
मैं मजदूर हूं
हरवंश हृदय
मजदूर दिवस पर
मजदूर दिवस पर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"काफ़ी अकेला हूं" से "अकेले ही काफ़ी हूं" तक का सफ़र
ओसमणी साहू 'ओश'
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
उधार और मानवीयता पर स्वानुभव से कुछ बात, जज्बात / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
মানুষ হয়ে যাও !
মানুষ হয়ে যাও !
Ahtesham Ahmad
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
जिसने अस्मत बेचकर किस्मत बनाई हो,
Sanjay ' शून्य'
अंदर का चोर
अंदर का चोर
Shyam Sundar Subramanian
*ज़िंदगी का सफर*
*ज़िंदगी का सफर*
sudhir kumar
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
शिवा कहे,
शिवा कहे, "शिव" की वाणी, जन, दुनिया थर्राए।
SPK Sachin Lodhi
-- कैसा बुजुर्ग --
-- कैसा बुजुर्ग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"वक्त" भी बड़े ही कमाल
नेताम आर सी
Loading...