Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

खुशियॉ लौट आयी हैं मिली जब चॉद-सी “जैनी”

चमकता चाँद सा चेहरा मेरे दिल में उतर आया !
हकीकत है या फिर सपनो में उससे बात कर आया !!
मिले दो पल मुझे भी इश्क़ को महसूस करने के ,
भ्रमर के रुप में जुगनू कुमुदिनी पर नजर आया !!

खुशियॉ लौट आयी हैं मिली जब चॉद-सी “जैनी” !
सुखद लगने लगा हर पल नहीं लगती है बेचैनी !!
लिए एहसास में जिसको विरह के गीत गाये थे,
वही सुंदर सलोनी खूबसूरत-सी है मृगनयनी !!

मुझे वो मिल गई कविता कहानी गीत गजलों में !
नजर आता है चेहरा फूल क्यारी और गमलों में !!
उसी के नाम का मै आजकल बस गीत गाता हूँ ,
रहेगी रानी बनकर वो सदा जुगनू के महलों में !!

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
156 Views
You may also like:
फूल तो सारे जहां को अच्छा लगा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
DrLakshman Jha Parimal
मुकम्मल जहां
Seema 'Tu hai na'
नयी हैं कोंपले
surenderpal vaidya
मेरे जैसा
Dr fauzia Naseem shad
इश्क खूब कर गए हो।
Taj Mohammad
राज का अंश रोमी
Dr Meenu Poonia
◆संसारस्य संयोगः अनित्यं च वियोगः नित्य च ◆
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोचता हूं कैसे भूल पाऊं तुझे
Er.Navaneet R Shandily
🚩यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यह देखो मिट्टी की हटरी (बाल कविता )
Ravi Prakash
कैसा अलबेला इंसान हूँ मैं!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
ऐ चाँद
Saraswati Bajpai
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
कविता
Rekha Drolia
मानव मूल्य
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राजू श्रीवास्तव - एक श्रृद्धांजली
Shyam Sundar Subramanian
हम फिर वही थे
shabina. Naaz
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुछ कहता है सावन
Ram Krishan Rastogi
मैने देखा है
Anamika Singh
कैलेंडर
Shiva Awasthi
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
देश के खस्ता हाल
Shekhar Chandra Mitra
कर्म का मर्म
Pooja Singh
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
तिरंगा
आकाश महेशपुरी
वो प्रकाश बन कर आई जिंदगी में
J_Kay Chhonkar
समय को दोष देते हो....!
Dr. Pratibha Mahi
Loading...