Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

खुशबू का झोंका

थका सा कुछ निराश सा
सो गया नींद के इंतजार में
सुबह के इंतजार में
बिगर नहाये चले गये
पानी के इंतजार में
दुकान पर जा बैठे,ग्राहक के इंतजार में
कुछ ले बैठे,कुछ दे बैठे
कुछ लेने के इंतजार में
कुछ देने के इंतजार में
यू ही पिसते रहे दुनियादारी के
झमेलों से,
खुशियो के इंतजार में
जिंदगी यू ही गुजर गयी
ओर अच्छी जिंदगी की चाह में
कब्र में लटक गये पैर
अब बैठे है कफन के इंतजार में***
^^^दिनेश शर्मा^^^

Language: Hindi
Tag: कविता
351 Views
You may also like:
एक था ब्लैक टाइगर रविन्द्र कौशिक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
कहानियां
Alok Saxena
उम्र गुजर जाने के बाद
Dhirendra Panchal
गीत
शेख़ जाफ़र खान
हमारी ग़ज़लों ने न जाने कितनी मेहफ़िले सजाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
समझ में आयेगी
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
सुरत और सिरत
Anamika Singh
'मृत्यु'
Godambari Negi
ख़्वाब
Gaurav Sharma
कुछ दोहे...
डॉ.सीमा अग्रवाल
✍️आझादी की किंमत✍️
'अशांत' शेखर
हर इक वादे पर।
Taj Mohammad
पितृसत्ता का षड्यंत्र
Shekhar Chandra Mitra
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
स्वच्छता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम
श्याम सिंह बिष्ट
*अदब *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम की परिभाषा
Shivkumar Bilagrami
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
मुहब्बतनामा
shabina. Naaz
Why Not Heaven Have Visiting Hours?
Manisha Manjari
साहस
Shyam Sundar Subramanian
वक्त
Harshvardhan "आवारा"
भूख
Varun Singh Gautam
वो राधा से फिर न मिला ।
शक्ति राव मणि
आस्तीक भाग-आठ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पिता
Aruna Dogra Sharma
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
Loading...