Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2016 · 1 min read

खुशबू का झोंका

थका सा कुछ निराश सा
सो गया नींद के इंतजार में
सुबह के इंतजार में
बिगर नहाये चले गये
पानी के इंतजार में
दुकान पर जा बैठे,ग्राहक के इंतजार में
कुछ ले बैठे,कुछ दे बैठे
कुछ लेने के इंतजार में
कुछ देने के इंतजार में
यू ही पिसते रहे दुनियादारी के
झमेलों से,
खुशियो के इंतजार में
जिंदगी यू ही गुजर गयी
ओर अच्छी जिंदगी की चाह में
कब्र में लटक गये पैर
अब बैठे है कफन के इंतजार में***
^^^दिनेश शर्मा^^^

Language: Hindi
456 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सम्मान
सम्मान
Paras Nath Jha
दिशा
दिशा
Saraswati Bajpai
सच्चा धर्म
सच्चा धर्म
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*राम-नाम को भज प्यारे यह, जग से पार लगाएगा (हिंदी गजल)*
*राम-नाम को भज प्यारे यह, जग से पार लगाएगा (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*कर्मफल सिद्धांत*
*कर्मफल सिद्धांत*
Shashi kala vyas
माँ का एहसास
माँ का एहसास
Buddha Prakash
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
कुछ यथार्थ कुछ कल्पना कुछ अरूप कुछ रूप।
Mahendra Narayan
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
आओ हम मुहब्बत कर लें
आओ हम मुहब्बत कर लें
Shekhar Chandra Mitra
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
ये छुटपुट कोहरा छिपा नही सकता आफ़ताब को
'अशांत' शेखर
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
Keep saying something, and keep writing something of yours!
Keep saying something, and keep writing something of yours!
DrLakshman Jha Parimal
साथ जीने के लिए
साथ जीने के लिए
surenderpal vaidya
फितरत
फितरत
umesh mehra
जन्म नही कर्म प्रधान
जन्म नही कर्म प्रधान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मैं अकेला
मैं अकेला
AMRESH KUMAR VERMA
पता नहीं कुछ लोगों को
पता नहीं कुछ लोगों को
*Author प्रणय प्रभात*
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
ज्ञानी उभरे ज्ञान से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
सदा किया संघर्ष सरहद पर,विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
छल प्रपंच का जाल
छल प्रपंच का जाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सावन में तुम आओ पिया.............
सावन में तुम आओ पिया.............
Awadhesh Kumar Singh
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
आज बेरोजगारों की पहली सफ़ में बैठे हैं
दुष्यन्त 'बाबा'
अनसोई कविता...........
अनसोई कविता...........
sushil sarna
नमन मंच
नमन मंच
Neeraj Agarwal
Loading...