Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2022 · 1 min read

खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।

गज़ल

212……212……212…..212
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
हो न आंखों में, कोई नमी दोस्तों।

आप दौलत हैं, सबसे बड़ी दोस्तों।
क्या करेगी मेरा, मुफलिसी दोस्तों।

जिंदगी का चमन, यूं ही खिलता रहे,
झूमकर खिल उठे, हर कली दोस्तों।

आप हैं जिंदगी में तो है हर खुशी,
आप से जिंदगी है हॅंसी दोस्तों।

भक्त भगवान में जब हुई दोस्ती,
दोस्ती बन गई बंदगी दोस्तों।

आज इक दूसरे के दिलों में बसे,
एक दिन थे सभी अजनबी दोस्तों।

प्रेमी बंधन है ये जन्मों का आपसे,
यूं ही चलती रहे दोस्ती दोस्तों।

……..✍️ प्रेमी

Language: Hindi
278 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*मालिक अपना एक : पॉंच दोहे*
*मालिक अपना एक : पॉंच दोहे*
Ravi Prakash
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
अगर सड़क पर कंकड़ ही कंकड़ हों तो उस पर चला जा सकता है, मगर
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
Kalebs Banjo
Kalebs Banjo
shivanshi2011
पाप का भागी
पाप का भागी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
माँ की यादें
माँ की यादें
मनोज कर्ण
कितने बदल गये
कितने बदल गये
Suryakant Dwivedi
मतदान
मतदान
साहिल
💐प्रेम कौतुक-214💐
💐प्रेम कौतुक-214💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
स्वार्थ सिद्धि उन्मुक्त
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भगवान परशुराम जी, हैं छठवें अवतार
भगवान परशुराम जी, हैं छठवें अवतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सेहत या स्वाद
सेहत या स्वाद
विजय कुमार अग्रवाल
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
तुमसे मिलना इतना खुशनुमा सा था
Kumar lalit
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
1-अश्म पर यह तेरा नाम मैंने लिखा2- अश्म पर मेरा यह नाम तुमने लिखा (दो गीत) राधिका उवाच एवं कृष्ण उवाच
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
2702.*पूर्णिका*
2702.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
Er. Sanjay Shrivastava
मन की गति
मन की गति
Dr. Kishan tandon kranti
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
माॅं की कशमकश
माॅं की कशमकश
Harminder Kaur
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
रस्म ए उल्फत भी बार -बार शिद्दत से
AmanTv Editor In Chief
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
कुछ तो तुझ से मेरा राब्ता रहा होगा।
Ahtesham Ahmad
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
अम्बे भवानी
अम्बे भवानी
Mamta Rani
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
ममतामयी मां
ममतामयी मां
SATPAL CHAUHAN
Loading...