Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं

खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सा लग रहा है आसमां

चारों तरफ फूल खिलखिलाने लगे हैं
पंक्षी भी मधुर स्वर में गुनगुनाने लगे हैं

खिली – खिली सी लग रही है फिज़ां
आसमां भी मंद – मंद पवन बहाने लगे हैं

पूछते हैं हाल मेरा वो क्यों कर
क्या वो मुझ पर तरस खाने लगे हैं

किनारा कर जो खुश हुए मुझसे
वो आज मुझ पर प्यार क्यों लुटाने लगे हैं

गली में उनकी हमने जाना छोड़ दिया
वो क्यों मेरी गली के चक्कर लगाने लगे हैं

दौलत से कभी हमने मुहब्बत थी ही नहीं
वो आज हम पर अपनी दौलत क्यों लुटाने लगे

जीने मरने की कसमें खाया करते थे वो
आज वो दूसरों का घर क्यों बसाने लगे

खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सा लग रहा है आसमां

चारों तरफ फूल खिलखिलाने लगे हैं
पंक्षी भी मधुर स्वर में गुनगुनाने लगे हैं ||

अनिल कुमार गुप्ता “अंजुम”

Language: Hindi
1 Like · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
View all
You may also like:
इंसान
इंसान
Vandna thakur
3146.*पूर्णिका*
3146.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
क्षणिकाए - व्यंग्य
क्षणिकाए - व्यंग्य
Sandeep Pande
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
हे प्रभू तुमसे मुझे फिर क्यों गिला हो।
सत्य कुमार प्रेमी
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
*नयी पीढ़ियों को दें उपहार*
Poonam Matia
उम्रभर
उम्रभर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'एक कप चाय' की कीमत
'एक कप चाय' की कीमत
Karishma Shah
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
आई वर्षा
आई वर्षा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#जयंती_आज
#जयंती_आज
*प्रणय प्रभात*
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
कहीं भूल मुझसे न हो जो गई है।
surenderpal vaidya
पहले अपने रूप का,
पहले अपने रूप का,
sushil sarna
दर्द भी
दर्द भी
Dr fauzia Naseem shad
"अपेक्षाएँ"
Dr. Kishan tandon kranti
*जातिवाद ने किया देश का, पूरा बंटाधार (गीत)*
*जातिवाद ने किया देश का, पूरा बंटाधार (गीत)*
Ravi Prakash
कान्हा तेरी मुरली है जादूभरी
कान्हा तेरी मुरली है जादूभरी
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
शरद
शरद
Tarkeshwari 'sudhi'
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अकेले चलने की तो ठानी थी
अकेले चलने की तो ठानी थी
Dr.Kumari Sandhya
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
शायरी 1
शायरी 1
SURYA PRAKASH SHARMA
ज़िंदगी यूँ तो बड़े आज़ार में है,
ज़िंदगी यूँ तो बड़े आज़ार में है,
Kalamkash
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
विजय कुमार अग्रवाल
The best way to end something is to starve it. No reaction,
The best way to end something is to starve it. No reaction,
पूर्वार्थ
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
हास्य-व्यंग्य सम्राट परसाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू ना मिली तो हमने
तू ना मिली तो हमने
VINOD CHAUHAN
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...