Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jun 2023 · 1 min read

खुद से सिफारिश कर लेते हैं

खुद से सिफारिश कर लेते हैं
अगवा हुई जिंदगी को, आजादी का भ्रम देते हैं
चौराहे पर खड़े होकर सोचते हैं, किधर जाएं
कुछ भटके हुए लोग, वहीं ठहर जाने का हल देते हैं
कुछ निशां छोड़ कर गए हैं, बुलंदी पर जाने वाले लोग
इन चिन्हों को देखकर, खुद को बल देते हैं

2 Likes · 510 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
जमाने को खुद पे
जमाने को खुद पे
A🇨🇭maanush
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
💐💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
Manu Vashistha
लैला लैला
लैला लैला
Satish Srijan
ना धर्म पर ना जात पर,
ना धर्म पर ना जात पर,
Gouri tiwari
डियर कामरेड्स
डियर कामरेड्स
Shekhar Chandra Mitra
■ अवध की शाम
■ अवध की शाम
*Author प्रणय प्रभात*
*स्वस्थ देह का हमें सदा दो, हे प्रभु जी वरदान (गीत )*
*स्वस्थ देह का हमें सदा दो, हे प्रभु जी वरदान (गीत )*
Ravi Prakash
"सन्देशा भेजने हैं मुझे"
Dr. Kishan tandon kranti
हम में,तुम में दूरी क्यू है
हम में,तुम में दूरी क्यू है
Keshav kishor Kumar
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
'नव कुंडलिया 'राज' छंद' में रमेशराज के विरोधरस के गीत
कवि रमेशराज
हमारा फ़र्ज
हमारा फ़र्ज
Rajni kapoor
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
स्वर्ण दलों से पुष्प की,
sushil sarna
धन्य होता हर व्यक्ति
धन्य होता हर व्यक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
#कुछ खामियां
#कुछ खामियां
Amulyaa Ratan
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
वो भी तो ऐसे ही है
वो भी तो ऐसे ही है
gurudeenverma198
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
Shweta Soni
" मैं सिंह की दहाड़ हूँ। "
Saransh Singh 'Priyam'
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
न छीनो मुझसे मेरे गम
न छीनो मुझसे मेरे गम
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
Loading...